राहुल गांधी का अकाउंट हैक होने पर भड़के विद्रोही ने साधा भाजपा पर निशाना

Ved Prakash
1 दिसम्बर 2016: स्वयंसेवी संस्था ग्रामीण भारत के अध्यक्ष एवं हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व प्रवक्ता वेदप्रकाश विद्रोही ने कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी का अधिकृत टवीटर एकाऊंट हैक करके उस पर गंदी-गंदी गालियां पोस्ट करने की कड़ी आलोचना करते हुए इसे साम्प्रदायिक व फासिस्ट प्रवृत्ति वालों की करतूत बताया। विद्रोही ने कहा कि 30 नवम्बर को देर सांय से देर रात तक राहुल गांधी के टवीटर एकांऊट आफिस आफ आरजी को हैक को हैक करके जिस तरह से गंदी से गंदी पोस्ट की गई, वह नैतिक व राजनीतिक गिरावट की पराकाष्ठा है। राहुल गांधी के टवीटर एकांऊट को हैक करके गंदी गालियां से भरे पोस्ट करने से किन ताकतों को सकून मिल सकता है, यह बताने की जरूरत नही है? टवीटर एकांऊट हैक करने के पीछे वहीं लोग है जो राहुल गांधी द्वारा आम आदमी के हित मेें व साम्प्रदायिक व फासिस्ट ताकतों के विरोध मेें उठाये जा रहे सवालों से परेशान है। देश में ऐसी ताकते कौनसी है सबको पता है और गांधी परिवार के प्रति उनकी घृणित सोच से कोई अनजान नही है।
विद्रोही ने कहा कि राहुल गांधी के टवीटर एकांऊट हैक होने के बाद कांग्रेस का सवाल वाजिब है कि जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बाद देश के दूसरेे वीवीआईपी राहुल गांधी का टवीटर एकांऊट भी हैक हो सकता है तो कथित कैशलेस इकॉनामी से आम आदमी के बैंक खातों से उसकी मेहनत की कमाई को उड़ाने में कितना समय लगेगा। जिस देश में अनपढ़ ग्रामीण अपने बैंक खातों व एटीएमे संचालन करने में भी सक्षम ना हो, वे कैशलेस इकॉनामी में धोखाधड़ी व लूट के शिकार होंगे, यह अनुमान सहजता से हर जागरूक नागरिक लगा सकता है। विद्रोही ने कहा कि राहुल गांधी के टवीटर एकांऊट के हैक होने के बाद कांग्रेस द्वारा कैशलेस इकॉनामी की सुरक्षा पर सवाल उठाने पर भाजपा की बौखलाहट भरी प्रतिक्रिया शंका पैदा करती है कि राहुल गांधी के टवीटर एकांऊट को हैक करने के पीछे कहीं भाजपाई व संघियों का प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष हाथ तो नही है? भाजपा प्रवक्ता का यह कहना कि राहुल गांधी के टवीटर एकांऊट हैक करना कांग्रेस की साजिश है ताकि मोदी की कैशलेस इकॉनामी को पलिता लगाने के लिए आमजनों में भय का वातावरण पैदा किया जा सके। भाजपा की यह प्रतिक्रिया अपने आप में चोरी की दाढ़ी में तिनका होने की शंका पैदा करती है।
विद्रोही ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने एसवाईएल पर यथास्थिति रखने का आदेश देकर एक तरह से पंजाब की अकाली-भाजपा सरकार द्वारा वर्षो पूर्व एसवाईएल नहर के लिए अधिग्रहित की गई 202 गांवों के 21511 किसानों की 4261 एकड़ जमीन को फिर से डिनोटिफाईड करके किसानों के नाम जमीन का इन्तकाल दर्ज करके पंजाब में अधूरी पड़ी एसवाईएल नहर निर्माण को बाधित करने के गैरकानूनी कुप्रयासों को एक झटका दिया है। विद्रोही ने हरियाणा के सभी राजनैतिक दलों, सामाजिक संगठनों से आग्रह किया कि एसवाईएल व पानी मुद्दे पर अपनी व्यापक एकजुटता कायम करते हुए एक स्वर में पंजाब की तिकड़मों का विरोध करके हरियाणा के व्यापक हितों के लिए मिलकर संघर्ष करे।
loading...
Top