राशन वितरण करने के निर्देश जारी

0
246
rohtak news 14 june 2019
रोहतक, 13 जून। जिला खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक सुरेन्द्र सैनी ने कहा कि हरियाणा सरकार द्वारा सभी बीपीएल (पीला कार्ड), एएवाई (गुलाबी कार्ड) एवं ओपीएच (खाकी कार्ड) कार्ड धारकों को जून माह का राशन वितरण करने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि गुलाबी कार्ड को गेंहू 35 किलोग्राम प्रति राशन कार्ड 2 रूपये प्रति किलोग्राम के रेट पर मिलेगा। चीनी एक किलोग्राम प्रति राशन कार्ड 13 रूपये 50 पैंसे प्रति किलोग्राम पर मिलेगी। 2 लीडर सरसों का तेल 20 रूपये प्रति लीटर की दर पर मिलेगा।
         उन्होंने कहा कि पीला कार्ड धारक को गेंहू 05 किलोग्राम प्रति सदस्य 2 रूपये प्रति किलोग्राम के रेट पर मिलेगा। चीनी एक किलोग्राम प्रति राशन कार्ड 13 रूपये 50 पैंसे प्रति किलोग्राम पर मिलेगी। 2 लीटर सरसों का तेल 20 रूपये प्रति लीटर की दर पर मिलेगा। ओपीएच (खाकी कार्ड) को गेंहू 05 किलोग्राम प्रति सदस्य 2 रूपये प्रति किलोग्राम के रेट पर मिलेगा।
     जिला खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक ने कहा कि यदि किसी भी बीपीएल, एएवाई एवं ओपीएच कार्ड धारक को उनके राशन कार्ड पर डिपो धारक से राशन मिले पर समस्या आती है तो वह अपनी समस्या के समाधान के लिए अपने क्षेत्र के निरीक्षक खाद्य एवं पूर्ति के कार्यालय में सम्पर्क करे या इस कार्यालय के दूरभाष नं. 01262-269895 पर अपनी शिकायत दर्ज करवाएं। किसी भी डिपूधारक के इस मामले में दोषी पाए जाने पर उसके विरूद्घ विभाग द्वारा कठोर कार्यवाही की जाएगी।
———
उपायुक्त ने दिए अधिकारियों व कर्मचारियों को दिशा-निर्देश
-उपायुक्त कार्यालय की सभी ब्रांचों के कर्मचारियों की ली बैठक
-आमजन की शिकायतों का मांगा ब्यौरा
हर्षित सैनी
रोहतक, 13 जून। उपायुक्त आर एस वर्मा ने उपायुक्त कार्यालय में कार्य कर रही सभी ब्रांचों के अधिकारियों व कर्मचारियों की बैठक ले जरुरी दिशा निर्देश जारी किए। उन्होंने कहा कि हमारी जिम्मेदारी काफी अहम है क्योंकि आमजन का कार्य किसी विभाग में किन्ही कारणों से नहीं हो पाता तो वह अंत में उपायुक्त कार्यालय की तरफ देखता है, क्योंकि यह जिला स्तर पर आम आदमी के लिए अंतिम सीढ़ी है।
      उन्होंने बैठक के दौरान निर्देश दिए कि सभी सरकारी कार्यालय परिसरों में पार्कों की स्थिति बेहतर बनाने, बिजली की बचत, पानी की उपलब्धता, कार्यालयों में एलइडी लाइटों का प्रयोग आदि कार्यों की दिशा में कार्य करने की जरुरत है। उन्होंने सरकारी कार्यालय परिसरों में आने वाले वाहनों की पार्किंग  व्यवस्था को सुदृढ़ करने के निर्देश भी इस मौके पर अधिकारियों को दिए। उन्होंने निर्देश दिए कि जिला स्तर के अधिकारी अवकाश से पूर्व इसकी एक प्रति उपायुक्त कार्यालय में भिजवाना सुनिश्चित करेंगे।
      उपायुक्त ने इस मौके पर शिकायत ब्रांच को विशेष तौर हिदायत देते हुए कहा कि पिछले तीन माह के दौरान जो भी आमजन की शिकायतें कार्यालय में आयी हैं उन पर जो भी कार्य किया गया है उसका ब्यौरा आगामी सप्ताह के भीतर उनके समक्ष प्रस्तुत करे। उन्होंने इस मौके पर निर्देश दिए कि उपायुक्त कार्यालय में आने वाली शिकायतों को आनलाईन तरीके से दर्ज किये जाने की दिशा में प्रयास किये जाएँ ताकि पारदर्शिता बनी रहे।
  आर एस वर्मा ने इस मौके पर बार्चों के अध्यक्षों को निर्देश दिए कि वे सप्ताह में उन सभी विभागों के आला अधिकारियों से उनके सम्बंधित विभागों की कार्यप्रणाली के बारे में जानकारी लेकर रिपोर्ट तैयार करते हुए उनके समक्ष प्रस्तुत करें। उन्होंने इस मौके पर जिला में अवैध कब्जे, अपदस्थ सरपंच व पंच जिनके खिलाफ जांच चल रही हो, आबियाना सम्बंधित कार्य और लम्बित चल रहे केसों आदि के बारे में भी विस्त्रत तौर पर जानकारी ली।
——–
महिला शक्तिकरण में समुदाय की भूमिका विषय पर एक सेमिनार  आयोजित
अनूप कुमार सैनी
रोहतक, 13 जून। हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा रोहतक जिले में कार्यरत आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं व सुपरवाइजर्स के लिए रोहतक शहर के बाल भवन में महिला शक्तिकरण में समुदाय की भूमिका विषय पर एक सेमिनार का आयोजन किया गया। जिसमें हरियाणा राज्य बाल कल्याणा परिषद की महत्वाकांक्षी परियोजना बाल सलाह, परामर्श व कल्याण केन्द्रों की स्थापना के राज्य नोडल अधिकारी अनिल मलिक ने मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत की। इस मौके पर  जिला कार्यक्रम अधिकारी विमलेश कुमारी भी मौजूद रही।
        नोडल अधिकारी अनिल मलिक ने इस मौके पर बताया कि हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद राज्य स्तर पर मनोवैज्ञानिक परामर्श केन्दों के माध्यम से बच्चों का मनोवैज्ञानिक स्तर पर सुधार करना चाहती है। इस कार्य में सामजिक मनोभाव के लोगों की एक सशक्त टीम भी कार्य कर रही है।
        अनिल मलिक ने कहा कि सामुदायिक स्तर पर हर व्यक्ति विशेष की महत्वपर्ण भूमिका होती है। बाल्यावस्था से ही बच्चों की परवरिश बिना लिंग भेद के की जा सके इसलिए माता-पिता को बेटे या बेटी में फर्क नहीं करना चाहिए। महिलाएं तभी सशक्त हो पाएंगी। जब वह शिक्षित व स्वाबलंबी होंगी।  मलिक ने कहा कि सिर्फ महिलाएं ही नहीं हर व्यक्ति विशेष में कोई कौशल व हुनर अवश्य होना चाहिए। बाल्यावस्था से ही अगर लडक़ों को रोटी बनाना या सुई धागे का काम सिखाया जाए तो वह बढ़ती उम्र के साथ महिलाओं की अन्य जरूरतों के बारे में बहुत आसानी से समझ सकते हैं और वह समझ भविष्य में महिलाओं के प्रति नजरिया बदल देगी।
      अनिल मलिक ने  अपने स्म्बोषण में कहा कि महिलाएं सशक्त तब होंगी जब वह खुले मन से सोचने के साथ  ज्ञान अर्जित करेंगी।  अगर उनमें कौशल है तो वह अपने पांव पर खड़ी होकर आर्थिक रूप से संपन्न हो सकती हैं। अनिल मलिक ने कहा कि चाहे आंगनवाड़ी कार्यकर्ता हैं या अन्य सामाजिक संस्था के प्रतिनिधि, सभी समाज के प्रतिनिधियों की समाज में एक अहम भूमिका होती है और उन्हें अच्छे समाज के निर्माण के लिए उन्हें अपनी भूमिका अदा करनी होगी।
      उन्होंने शोषण के विषय पर अपनी बात रखते हुए कहा कि सिर्फ लड़कियां ही नहीं लडक़ों का शोषण भी हो रहा है। हम सभी को बाल संरक्षण जैसे मुद्दों पर मिजुल के काम करने की आवश्यकता है। सामाजिक सशक्तिकरण से ही सकारात्मक साथ चाहिए। इन्सान अपने हक को केवल ज्ञान के माध्यम से प्राप्त कर सकता है और इसके लिए शिक्षा जरूरी है। आज के दौर में महिलाओं को पर्दे से बाहर निकलते हुए घर से बाहर आकर कदम बढ़ाना होगा हम अगर चाहते हैं हमारी बेटियों को समाज में मान-सम्मान व इज्जत मिले तो हमें अपने घर की बहू को भी वही स्थान देना होगा जो हम बेटियों को देते आये हैं। । पहल खुद से करनी होगी अपने घर से तभी एक सकारात्मक सामजिक बदलाव सम्भव है और यह हो सकता है। जरूरी है शुरूआत करने की, एक सकारात्मक सोच, आशावादी नजरिए, हौसले व साहस के साथ,  तब कुछ भी नामुकिन नहीं है।
0  0 0 0 0 00 00  00
हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद के महानिदेशक ने की विडियो कांफ्रेंस
सक्षम परीक्षा में तीसरी से आठवीं कक्षा तक के सभी बच्चों को शामिल-डा. राकेश गुप्ता
सीएम विंडों, कर्मचारियों के पैंशन केस की समीक्षा की
रोहतक जिले में बिना मान्यता के चल रहे हैं 14 स्कूल
हर्षित सैनी
रोहतक, 13 जून। हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद के महानिदेशक व सीएमजीजीए कार्यक्रम के प्रोजेक्ट डायरेक्टर डॉ. राकेश गुप्ता ने प्रदेश के सभी शिक्षा विभाग के अधिकारियों को विडियो कांफ्रेंस के माध्यम से जरुरी दिशा निर्देश देते हुए सभी जिलों में शिक्षा विभाग संबंधित सीएम विंडों, कर्मचारियों के पैंशन केस, सक्षम खंड बनाने बारे किए गए कार्य की प्रगति कार्यों और अन्य सम्बंधित परियोजनाओं की समीक्षा की।
    डॉ. गुप्ता ने कहा कि इस वर्ष से सक्षम परीक्षा में तीसरी से आठवीं कक्षा तक के सभी बच्चों को शामिल किया जाएगा और उन्हें पाठ्यक्रम के सभी विषयों में सक्षम बनाया जाएगा। अगस्त में सभी जिलों के सभी खंडों की एक साथ सक्षम परीक्षा आयोजित की जाएगी। इसकी तैयारी के लिए जुलाई के प्रथम सप्ताह में शिक्षकों के लिए विशेष कार्यशाला भी आयोजित की जाएगी। उन्होंने सभी जिलों के अधिकारियों को अभी से अपनी तैयारियां शुरू कर देने को कहा।
    उन्होंने इस दौरान रोहतक जिले के कलानौर को इस राउंड में सक्षम खंड बनने व रोहतक को सक्षम प्लस खंड के समीप पहुँचने के लिए अधिकारियों व मुख्यमंत्री के सुशाशन सहयोगी प्रांजल बेगवानी की उनके प्रयासों के लिए पीठ थपथपाई।  गौरतलब है की सांपला को पहले ही सक्षम प्लस घोषित किया जा चुका है।
         इस मौके पर  जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी डॉ. विजय लक्ष्मी से उन्हें जानकारी देते हुए बताया कि जिला रोहतक में फिलहाल केवल एक सीएम विंडों व दो कोर्ट केस लम्बित है, जिनका जल्द ही निपटान कर दिया जाएगा।
      इस मौके पर डॉ. राकेश गुप्ता के बिना मान्यता प्राप्त स्कूलों के बारे में जानकारी मांगे जाने पर विजय लक्ष्मी ने बताया कि जिला में ऐसे 14 स्कूलों की पहचान की गई है, जो बिना मान्यता के चल रहे हैं। इन स्कूलों को जल्द से जल्द बंद करवाने के लिए उपायुक्त से बात करके पुलिस मदद से सीलबंदी की जाएगी।
    इस मौके पर डॉ. गुप्ता ने उन स्कूलों के मुख्याध्यापकों से भी सीधी बात की जिन स्कूलों के सक्षम नतीजे नकल की शिकायते मिलने के कारण रोक दिए गए है। उन्होंने सभी चेतावनी देते हुए कहा कि भविष्य में इस प्रकार की घटना ना हो, इसके लिए वे अधिक से अधिक प्रयास करें अन्यथा उमके खिलाफ सख्त कारवाई अम्ल में लायी जा सकती है।
        इस अवसर पर डीईईओ डॉ. विजय लक्ष्मी, डिप्टी डीईईओ आदर्श सांगवान, सुशाशन सहयोगी प्रांजल बेगवानी, डीपीसी जितेंदर मलिक, बीईओ आदर्श राजन, पुष्पलता सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।
——–
अधिकारियों-कर्मचारियों का तीन दिवसीय योग प्रशिक्षण शिविर आरम्भ
अतंर्राष्ट्रीय योग दिवस के प्रोटोकोल के अनुसार सिखाई योग क्रियाएं
अनूप कुमार सैनी
रोहतक, 13 जून। अतंर्राष्ट्रीय योग दिवस के लिए अधिकारियों व कर्मचारियों को योगाभ्यास व प्राणायाम में पारंगत करने के लिए आयोजित किया गया तीन दिवसीय योग प्रशिक्षण शिविर आज राजीव गांधी खेल स्टेडियम में शुरू हो गया। पहले दिन पतंजली योगपीठ के प्रशिक्षकों ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों-कर्मचारियों को अंतर्राष्टï्रीय योग दिवस के प्रोटोकोल के अनुसार योग क्रियाएं सिखाई और उनसे होने वाले लाभों के बारे में भी जानकारी दी।
       पतंजलि योग समिति के प्रशिक्षकों व आयुष विभाग के अधिकारियों ने उपस्थित अधिकारियों-कर्मचारियों को योग दिवस पर प्रोटोकोल के तहत ग्रीवाचालन, स्कंध संचालन, ताड़ासन, वृक्षासन, पादहस्तासन, अर्धचक्रासन व त्रिकोणासन, बैठकर करने वाले दंडासन, भद्रासन, वज्रासन, अर्ध उष्ट्रासन, उष्ट्रासन, शशकासन, उत्तानमंडूक व वक्रासन, पेट के बल लेटकर किए वाले मकरासन, भुजंगासन, शलभासन तथा पीठ के बल लेटकर किए वाले सेतुबंधासन, उत्तानपाद आसन, अर्ध हलासन, पवनमुक्तासन व शवासन आदि योगासनों व प्राणायाम का अभ्यास करवाया।
          उन्होंने अधिकारियों को कपालभाति, अनुलोम-विलोम, शीतली, भ्रामरी व ध्यान का अभ्यास करवाते हुए संकल्प व शांति पाठ करवाया गया। इस दौरान प्रशिक्षकों ने बताया कि योग दिवस का अतंर्राष्ट्रीय स्तर पर मनाया जाना भारतीय संस्कृति का विजय पर्व है और इस बार रोहतक में राज्य स्तरीय योग कार्यक्रम आयोजित करवाया जाएगा।
     उनका कहना था कि योग भारतवर्ष के ऋषि-मुनियों द्वारा ईजाद की गई सर्वाधिक पुरातन विधा है, जिसे आज पूरे विश्व ने मान्यता दी है। उन्होंने बताया कि आज चिकित्सा विज्ञान ने भी इस तथ्य को स्वीकार किया है कि योगासनों के नियमित अभ्यास से मानसिक व शारीरिक विकार दूर होते हैं। जीवन में स्वस्थ रहने के लिए हर व्यक्ति को नियमित रूप से योगाभ्यास करना चाहिए।
        इस मौके पर जिला आयुष अधिकारी सुषमा नैन, पतंजलि योग पीठ के जगबीर आर्य व दया आर्य मौजूद थे।
            ———-
फोटो: 04 व 08
                ——–
शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ना छात्र आत्महत्या का मुख्य कारण है-प्रतिभा सुमन
– स्कूलों और कालेजों में मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता जरूरी
– हॉस्टल में छात्राओं की काउंस्लिंग करवाना बहुत जरूरी
अनूप कुमार सैनी
रोहतक, 13 जून। हरियाणा राज्य महिला आयोग कि अध्यक्षा प्रतिभा सुमन ने कहा है कि वर्ष 2009 की राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो रिपोर्ट में बताया गया है कि 15-29 वर्ष की आयु वर्ग के (34.5 प्रतिशत)  युवक आत्महत्या का सबसे बड़ा हिस्सा रहे।
      उन्होंने कहा है कि आत्महत्या दुनिया भर के युवाओं के बीच मृत्यु के शीर्ष तीन कारणों में से एक है। जो हर साल, लगभग एक लाख लोग आत्महत्या से मर जाते हैं और 20 गुना अधिक लोग आत्महत्या का प्रयास करते है।
                 प्रतिभा सुमन वीरवार को महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय में छात्राओं के यमुना हॉस्टल में एमफार्मा सैकेंड ईयर की छात्रा गगनप्रीत कौर की आत्महत्या के मामले की जांच करने यमुना हॉस्टल पहुंची थी। इस दौरान श्रीमती प्रतिभा सुमन ने हॉस्टल के उस कमरे का निरीक्षण किया, जिसमें छात्रा गगनप्रीत कौर ने आत्महत्या की थी।
       उन्होंने कहा कि लोकप्रिय धारणा यह है कि परीक्षा में असफलता या शिक्षा के क्षेत्र में पिछडऩा छात्र आत्महत्या का मुख्य कारण है। इन मौतों का कारण माता-पिता के साथ खराब संबंध, अत्यधिक अपेक्षाएं, अवांछित भावना, अपने साथियों की गलत समझ होती है।
           हरियाणा राज्य महिला आयोग कि अध्यक्ष ने कहा कि इसका उपाय है स्कूलों और कालेजों में मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता पैदा करना। मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण को स्कूल के पाठ्यक्रम में जोड़ा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि बचपन के दिनों में जब बच्चों को इन विकारों की जानकारी होगी तभी वे सहायता प्राप्त कर सकेंगे। भारत में विश्वविद्यालयों में अभी भी परामर्श केंद्रों की कमी है, जहां प्रशिक्षित परामर्शदाता और मनोविज्ञानी छात्रों की भावनात्मक शुरुआत में मदद कर सकते हैं।
    प्रतिभा सुमन ने हॉस्टल प्रशासन के अधिकारियों को दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि हॉस्टल में छात्राओं की काउंस्लिंग करवाना बहुत जरूरी है। उन्होंने प्रशासन को हॉस्टल के मॉरिडोर में सीसीटीवी कैमरे लगवाने को कहा।

LEAVE A REPLY