भाजपा के राज में भृष्ट कर्मचारियों का होता है सम्मान

यूनुस अलवी. मेवात: भरस्टाचार को सबसे बड़ा मुद्दा बना कर केंद्र और प्रदेश में काबिज हुई भाजपा की सरकार के अधिकारियों को भरस्टाचार ही नहीं बल्कि भृष्ट कर्मचारियो से कोई परहेज नहीं है। इससे तो यही लगता है कि जो रिश्वत लेने के इलजआम में पकड़ा जाये उसको प्रसंसन ज़रूर सम्मानित करेगा।

अब आप को बताते है कि गत 13 जून को नगीना तहसील में कार्यत कर्मचारी अनिल को विजिलेंस की टीम ने 9 हज़ार रुपये रिश्वत लेते रंगों हाथो पकड़ा था। अनिल ने ये रिश्वत एक किसान से ली थी सौदा तो 20 हज़ार का हुआ था लेकिन पहली किस्त उसको 9 हज़ार दी थी।

उसके बाद अनिल साहेब जेल की हवा खाकर जब लोटे तो मेवात की नोकरी उसका बेसब्री से इंतज़ार कर रही थी। मानो जैसे अनिल जैसा और कोई इतना बड़ा ईमानदार और महन्ती मेवात में कोई और युवा ना हो। आखिर हुआ भी ऐसा। जैसे ही अनिल साहेब जेल से जमानत पर आये तो हमारे डीसी मणिराम शर्मा ने उनका सम्मान करते हुए अपने ही अधीन DITS विभाग में नोकरी दे दी।

अनिल साहेब को हाल ही में 21 दिसिम्बर 2016 को फ़िरोज़पुर झिरका ऑफिस में बतौर CM विंडों विभाग में तबादला किया है। सूत्रों का कहना है कि अनिल cm विंडो के अलावा दूसरा विभाग भी देखता है। कमाल की बात तो ये हे की अनिल साहेब को फ़िरोज़पुर झिरका ऑफिस में आये अभी पूरा एक महीना ही गुजरा हे। इस् एक महीने में अनिल ने ऐसा किया तीर मार दिया की उसका सम्मान देने के लिए अधिकारियो को मजबूर होना पड़ा। जबकि कई कई साल से इसी  SDM ऑफिस में ईमानदारी के काम करने वालो को सम्मान देने की ज़रूरत तक नही समझी गए।

दूसरी बात जिसका सवाल उठता है डीसी रेट पर नोकरी करने वाला जो रेड हेंड पकड़ा गया हो उसी को ही फिर से नोकरी कियो दी गई। लोगो का आरोप है कि मामला शायद अभी अदालत में विचाराधीन है। लोगो ने इस मामले की जाँच कराने की मांग की हे। वही मेवात की जनता प्रसंसन से पूछ रही है कि एक महीने में अनिल द्वारा की गई उप्लाधियो को जनता के सामने गिनवाया जाये।

loading...

Leave a Reply

*