ज्यादा से ज्यादा युवाओं को नौकरी देने की योजना बना रही है खट्टर सरकार

0
458
चंडीगढ़, 4 नवम्बर- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि प्रदेश के युवाओं को प्रदेश के सरकारी विभागों, संस्थाओं व उद्योगों में ज्यादा से ज्यादा रोजगार मिले, इसके लिए प्रदेश सरकार योजनाएं बना रही हैं। इसके अलावा, राज्य सरकार प्रदेश के युवाओं के कौशल विकास के लिए कौशल विकास मिशन और कौशल विकास विश्वविद्यालय की स्थापना भी करने जा रही हैं। 
मुख्यमंत्री, जो सदन के नेता भी है, आज यहां विधानसभा में स्वर्ण जयंती वर्ष के अवसर पर बुलाए गए एक विशेष सत्र में उपस्थित सदस्यों को संबोधित कर रहे थे। 
उन्होंने कहा कि अंतिम व्यक्ति का भला कैसे हो, इस पर राज्य सरकार कार्य कर रही है और इसी कड़ी में बेरोजगारों को सिर्फ भत्ता देना ही काफी नहीं है बल्कि राज्य सरकार ने 100 घंटे कार्य के करने पर भत्ता देना सुनिश्चित किया है। उन्होंने कहा कि अभी स्नातकोत्तर पढ़े-लिखे युवकों को के लिए यह योजना शुरू की गई है, जिसमें किसी भी सरकारी व निजी संस्थान में कार्य को करवाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इसके पश्चात स्नातक पढे-लिखे युवकों  और उसके बाद 12वीं पास युवकों के लिए यह योजना लागू की जाएगी। 
उन्होंने कहा कि अभी इसी वर्ष गुरुग्राम में हैपनिंग हरियाणा ग्लोबल सम्मिट का आयोजन किया गया जिसमें निवेश के प्रति स्कोप व आर्कषण बढा हैं। उन्होंने कहा कि 6 लाख करोड़ रुपए के निवेश के साथ 550 से ज्यादा के समझौतों पर हस्ताक्षर हुए हैं। उन्होंने कहा कि तुलनात्मक दृष्टि से पिछली सरकारों के प्रथम दो वर्षों में इन दो सालों में हरियाणा ने काफी प्रगति की है। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि गुरुग्राम, फरीदाबाद, नोएडा और दिल्ली जैसे बडे शहरों की आबादी 4 करोड से अधिक हैं और इन शहरों की सप्लाई लाईन हरियाणा बन सकता हैं, हम किस प्रकार से इन शहरों को खेती व अन्य क्षेत्र में सप्न्लाई चेन का कार्य कर सकते हैं, योजना बनानी होगी।
उन्होंने कहा कि आज हमारे सामने कई विषय, समस्याएं इत्यादि खड़ी हैं, जिनके समाधान के लिए हमें लक्ष्य निर्धारित करना हैं, जैसे कि गरीबी- हालांकि हरियाणा में अन्य प्रांतों के मुकाबले गरीबी कम हैं परंतु हमें इसे दूर करने के लिए पग उठाने होंगें। उन्होंने कहा कि वहीं राज्य के गुरुग्राम जिले में प्रति व्यक्ति आय 4.5 लाख रुपए प्रति वर्ष है, जबकि उसके साथ लगते जिले नूंह में 40 से 45 हजार रुपए प्रति व्यक्ति आय प्रति वर्ष है, हमें इस दूरी को कम करने पर कार्य करना हैं। उन्होंने कहा कि रोजगार के साधन ज्यादा से ज्यादा किस प्रकार से उपलब्ध करवाए जाए और बेरोजगारी को समाप्त किया जाए, इस पर भी योजनाएं तैयार करनी हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे प्रदेश में जमीन कम हैं और आबादी बढने, उद्योग लगने से भी जमीन कम होती जा रही हैं, फिर भी किसानों को कम जोत में ज्यादा आय या अधिक फसल प्रति व्यक्ति किस प्रकार से निकाली जा सकती हैं, इस पर कार्य करना हैं। 

LEAVE A REPLY