जिद कर हरियाणा के विधायकों ने 60 हजार प्रतिमाह बढ़वा ली अपनी पगार

0
510

Chandigarh 01 September 2016: वेतन-भत्तों में बढ़ोतरी को लेकर विधायकों द्वारा उठाई गयी आवाज काम कर गयी। राज्य के विधायकों के वेतन-भत्तों में लगभग 60 हजार रुपये मासिक का इजाफा किया गया है। मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष-उपाध्यक्ष, मंत्रियों और मुख्य संसदीय सचिवों का वेतन नहीं बढ़ाया गया है, लेकिन इन्हें भत्तों में हुई बढ़ोतरी का लाभ मिलेगा। पूूर्व विधायकों की पेंशन भी नहीं बढ़ाई गयी है।
विधायकों के वेतन को 30 हजार रुपये से बढ़ाकर 40 हजार रुपये मासिक कर दिया गया है। इससे पहले मंगलवार को पेश किये गये बिल में भी 40 हजार रुपये का ही प्रावधान था। विधानसभा क्षेत्र भत्ते के लिए मिलने वाली 30 हजार की राशि को बढ़ाकर 60 हजार रुपये कर दिया गया है। इससे पहले के बिल में यह राशि 40 हजार रुपये थी। विधायक भी वेतन की बजाय भत्तों में ही बढ़ोतरी पर अड़े थे। इसका बड़ा कारण यह है कि विस क्षेत्र भत्ते सहित कई ऐसे भत्ते हैं, जो आयकर के दायरे से बाहर हैं।

 मार्च में हुए बजट सत्र में वेतन-भत्ते बढ़ाने का मुद्दा उठा। बसपा विधायक टेकचंद शर्मा, इनेलो के जाकिर हुसैन, भाजपा के ज्ञानचंद गुप्ता व डॉ़ बनवारी लाल, कांग्रेस के ललित नागर व निर्दलीय जयप्रकाश की 6 सदस्यीय कमेटी बनाई गयी। कमेटी ने 31 मार्च को रिपोर्ट दे दी। लगभग दो लाख रुपये वेतन-भत्ते करने की सिफारिश की गयी। सैद्धांतिक तौर पर सीएम ने उसी दिन मंजूरी दे दी। मंगलवार को बिल पेश हुआ तो उसमें केवल 25 हजार रुपये की बढ़ोतरी थी। इससे विधायक भड़क उठे जिससे बिल लटक गया। बुधवार को संशोधित बिल आया तो उसमें 60 हजार रुपये की बढ़ोतरी हुई।

LEAVE A REPLY