बाबैन की बेटी ने किया पूरे भारत में इलाके का नाम रोशन

haryana
बाबैन, 7 जुलाई (राकेश शर्मा) : गांव की बेटीयां भी शिक्षा व खेलों में अपनी प्रतिभा के दम पर प्रदेश में वाहवाही लूट रही है अब गांव की बेटीयां भी शहर की तर्ज पर तरक्की की राह पर निकल गयी है ओर अपनी मेहनत ओर लगन से माता पिता  व देश प्रदेश का नाम रोशन कर रही है अब बेटीयां बोझ नहीं बल्कि सिर का ताज बन गयी हैं ऐसा ही कुछ कर दिखाया बाबैन की बेटी जागृति सरस्वती ने
बाबैन की इस बेटी ने नैशनल इंस्टीच्यूट आफ स्पोर्टस पटियाला के तहत साईकलिंग कोच की ट्रेनिंग हेतु चयन हुआ है जागृति की इस कामयाबी को लेकर उसके परिजनों को बधाई देने के लिए लोगों का तांता लगा हुआ है। इस होनहर बेटी ने इससे पहले भी शिक्षा के क्षेत्र में बी.एस.सी. स्र्पोटस, बी.पी.एड, योगा में प्रथम श्रेणी में डिग्री हासिल की और इसके साथ ही कबड्डी से खेलों में शुरूआत करके दौड, ऊंची कूद के बाद साईकलिंग में हरियाणा ओलपिक में दो गोल्ड मैडल हासिल किए इसके साथ ही इट्रं यूनिवर्सिटी में पदक हासिल करने के बाद भारत के नैशनल इंस्टीच्यूट आफ स्पोर्टस पटियाला में कोच की ट्रेनिग हेतू चयन हुआ है। जागृति ने खेलों में अव्वल रहकर प्रदेश का नाम पूरे देश में रोशन किया है। बाबैन के सरस्वती स्कूल की छात्रा रह चुकी जागृति ने अपनी सफलता का श्रेय अपने गुरूजनों व परिजनों को दिया है। जागृति ने बताया कि वह खेलों में हिस्सा लेने के साथ-साथ समयबद्व तरीके से पढाई करती थी। जागृति का कहना है कि उनके माता पिता की उम्मीदों पर खरा उतरना ही उनका लक्ष्य है। पिता दर्शन सरस्वती को अपनी बेटी जागृति पर पूरा गर्व करते र्है और उन्हे उम्मीद है कि वह हर क्षेत्र में सफल होगी।
क्या कहते है खेल कोच?
खेल कोच राज किशन का कहना था कि जागृति का साईकलिंग कोच के लिए चयन हुआ जो बाबैन इलाके के लिए गर्व की बात है।

Related posts

loading...
Top