महिला आयोग की अध्यक्ष ने महिला पुलिस स्टेशन का किया निरीक्षण

0
229

अनूप कुमार सैनी रोहतक: हरियाणा महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती प्रतिभा सुमन ने कहा है कि महिला थानों में आने वाले शिकायतकर्ताओं के साथ पुलिस का व्यवहार नरम एवं भावनात्मक होना चाहिए। उन्होंने कहा कि पीडि़त व परेशान महिला ही अपनी समस्या को लेकर पुलिस स्टेशन पहुंचती है। अगर पुलिस स्टेशन में भी उन्हें दुत्कार मिले तो पीडि़त महिला का मनोबल बिल्कुल टूट जाएगा। श्रीमती प्रतिभा सुमन ने आज महिला पुलिस स्टेशन रोहतक का निरीक्षण किया और महिला विरूद्ध अपराधों की शिकायतों बारे विस्तार से पूछताछ भी की।

वीओ 1 – प्रतिभा सुमन ने मीडिया कर्मियों से बातचीत करते हुए बताया कि महिला पुलिस स्टेशन में घरेलू हिंसा के मामले अधिक आए हैं और पुलिस स्टेशन का प्रयास रहता है कि समाधान होने योग्य मामलों को पहले स्तर पर ही निपटा दिया जाए। उन्होंने बताया कि रोहतक महिला पुलिस स्टेशन में एक साल के भीतर 344 शिकायतें दर्ज की गई है, जिनमें से 282 का समाधान किया जा चुका है और 62 मामले लम्बित हैं। उन्होंने थाने में स्टाफ की उपलब्धता और काम करने में आने वाली दिक्कतों के बारे में भी बातचीत की।

उन्होंने कहा कि महिला आयोग द्वारा एक अभियान चलाया जा रहा है, जिसके तहत महिला आयोग की टीम प्रदेश के सभी जिलों की जेलों व महिला थानों का दौरा कर समस्याओं को जानने का प्रयास करेगी और यह भी देखा जाएगा कि महिला कैदियों को जेलों में वांछित सुविधा मिल रही है या नहीं। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि महिला आयोग महिलाओं के विरूद्ध अपराध के मामलों को गंभीरता से ले रहा है और विभिन्न माध्यमों से मिलने वाली सूचनाओं के आधार पर भी आयोग स्वयं संज्ञान लेते हुए कार्यवाही करता है।

महिला आयोग की अध्यक्ष ने कहा कि महिलाओं से संबंधित शिकायतों का निपटारा करने के लिए रोहतक में 15, 16 व 17 जनवरी को तीन दिवसीय संयुक्त बैंच स्थानीय कैनाल रैस्ट हाऊस में लगाई जाएगी। उन्होंने कहा कि कोई भी महिला अपनी शिकायत को लेकर बैंच के समक्ष पेश हो सकती है और आयोग मौके पर ही इन शिकायतों का निपटारा करने का प्रयास करेगा। उन्होंने यह भी बताया कि महिला आयोग ने राज्य सरकार से आग्रह किया है कि प्रदेश के हर जिला में आयोग का कार्यालय खोला जाए ताकि पीडि़त महिलाएं स्थानीय स्तर पर ही अपनी शिकायतों को दे सकें।

LEAVE A REPLY