स्वामीनाथन आयोग की रिर्पोट को लागू करवाने की मांग को लेकर किया सरकार के खिलाफ रोष प्रर्दशन

0
752

Haryana Ab Tak Rakesh Sharma

केंद्र सरकार के द्वारा पेश किए इस बजट में किसानों को भारी राहत मिलने की उम्मीद थी लेकिन सरकार ने किसानों को किसी प्रकार की राहत न देकर किसान वर्ग की अनदेखी करने का काम किया है और किसान वर्ग के साथ धोखा किया गया है। उपरोक्त शब्द भाकियू के बाबैन ब्लॉक प्रधान लाल ङ्क्षसह चकचानपुर ने किसानों की बैठक को संबोधित करते हुए कहे। किसानों ने स्वामीनाथन आयोग की रिर्पोट को लागू करवाने व किसानों को कर्ज मुक्त करने की मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ रोष प्रर्दशन किया। लाल ङ्क्षसह ने उपस्थित किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि इस बैठक में 6 मार्च को कैथल के हुड्डा ग्राउंड में आयोजित किसान बचाओ रैली को कामयाब बनाने के लिए ब्लॉक बाबैन के भाकियू पदाधिकारियों से विचार विमर्श किया और घर-घर जाकर किसानों सेे रैली में पहुंचने के प्रति शपथपत्र देने का आह्वान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने अपने चुनावी घोषणा पत्र के साथ अपने भाषणों में तथा जींद में आयोजित किसान महापंचयात में स्वामीनाथन आयोग की रिर्पोट लागू करने बारे लिखित रूप से वायदा किया था अब सरकार यह रिर्पोट लागू करने में आनाकानी कर रही है। उन्होंने कहा कि जब सरकार द्वारा घाटे में चल रहे उद्योगों का कर्ज माफ किया जा सकता है तो कर्ज के बोझ तले दबे किसान का कर्ज माफ करने में देरी क्यों की जा रही है। उन्होंने कहा कि इस रैली में प्रदेश के छह किसान संगठन हिस्सा लेंगे। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार किसानों की मांगों को पूरा करके किसान को कर्ज मुक्त नहीं करेगी व स्वामीनाथन आयोग की रिर्पोट लागु नहीं करेगी तब तक किसानों का संर्घष जारी रहेगा। इस मौके पर गुरदयाल ङ्क्षसह सुरजगढ, बलविंद्र गुढी, जयपाल गुढा, सुखविन्द्र भूखडी, गुरबाज सिंह बड़तौली, सततपाल मंगौली जाट्टान, अजैब ङ्क्षसह बडतौली, अनुज, राम ङ्क्षसह महुवाखेडी, मेहर ङ्क्षसह व अन्य किसान मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY