जब भारत में खुद सुरक्षित नहीं है तो रोहिंग्या मुस्लिमों को क्यू यहाँ बसाना चाहती है टीम अंसारी?

Why Team Ansari Support Myanmar's Rohingya?

नई दिल्ली: रोहिंग्या मुसलामानों को देश की सरकार देश से बाहर करना चाहती हैं जिन्हे देश की सुरक्षा के लिए ख़तरा बताया जा रहा है। कल आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने भी इशारा किया कि रोहिंग्या देश पर बोझ बन सकते हैं। विजय दशमी पर्व पर लोगों को सम्बोधित करते हुए भागवत ने कहा कि केरल और बंगाल में जिहादी और राष्ट्रविरोधी ताकतें अपना खेल रही हैं। वहां की राज्य सरकारें इस मुद्दे पर गंभीरता से ध्यान नहीं दे रही हैं। उन्होंने कहा कि बांग्लादेशी अवैध घुसपैठियों की समस्या अभी तक नहीं सुलझी है। म्यांमार से खदेड़े गए रोहिंग्या मुसलमान हमारे देश में आ गए। रोहिंग्या मुसलमानों के संबंध चरमपंथी ताकतों के साथ हैं, इसलिए उनकी सरकार ने इन्हें अपने देश से खदेड़ दिया, अगर हम भारत में उन्हें जगह देंगे तो वे हमारे ऊपर आर्थिक बोझ बन जाएंगे। मानवता की बात से हटकर हमे देश की सुरक्षा पर भी ध्यान देना होगा।

देश के तमाम लोग अब भी रोहिंग्या का समर्थन कर रहे हैं, मानवता की दुहाई दे रहे हैं। रिफत जावेद ने ट्विटर पर लिखा है कि मानवता को शर्मसार करती ये तस्वीर, इस साल रोहिंग्या शरणार्थी दिखे रावण के पुतले की शक्ल में। सो जाइए, आपका ज़मीर कौन सा जाग रहा है? जावेद ने रावण के पुतलों की तस्वीर पोस्ट कर ये लिखा है जिसपर अंकुर नाम के एक युवक ने उन्हें जबाब देते हुए लिखा है कि कश्मीर पंडित जिनको आपके भाइयों ने उनकी सदियों पुरानी ज़मीन से कत्ले आम करके भगा दिया उनके के लिए भी थोड़ी शर्म कर लो। अंकुर ने एक पोस्टर भी पोस्ट किया है जिसमे लिखा है कि कमाल है जिस देश में मुसलमान सुरक्षित नहीं हैं उस देश में विदेशी मुसलमान रहने की जिद कर रहे हैं। अंकुर की बात कुछ सच सी सच सी लगती है क्यू कि जब पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी से कहा कि देश में मुसलमान सुरक्षित नहीं हैं, डरे हुए हैं तब ऐसे तमाम लोगों ने उनका सपोर्ट किया था और अब रोहिंग्या को ये भारत में बसाना चाहते हैं जहां ये कहते हैं हम खुद सुरक्षित नहीं हैं।

loading...

Leave a Reply

*