सीने पर गोली लगने के बाद निहत्थे आतंकवादियों से भिड़ गया ये जांबाज जवान

0
325
We salute the supreme sacrifice of our martyrs ...from Jammu Hon Lt Madan Lal Chaudhar

नई दिल्ली: जम्मू के सुंजवान सेना कैंप में आतंकी भारी तवाही के मकसद से कैम्प में घुसे थे जिनका लक्ष्य सेना के परिवारों को निशाना बनाना था लेकिन एक जवान ने उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया। इस ऑपरेशन में कुल चार आतंकियों को ढेर किया गया। आतंकियों ने शनिवार सुबह हमला किया था।

इस हमले में 50 वर्षीय सूबेदार मदन लाल चौधरी ने भी शहादत दी। सीने में गोली लगने के बाद भी मदन लाल अकेले ही आतंकियों से भिड़ गए और अपनी अंतिम सांस तक देश के लिए लड़ते रहे। मदन लाल ने अपनी जान तो गंवाई लेकिन उन्होंने आतंकियों को परिवारों की तरफ नहीं आने दिया।

आतंकियों की गोलीबारी में सूबेदार मदनलाल चौधरी घायल हुए थे। उन्हें एके-47 से मारी गई गोली लगी थी। आतंकियों ने सेना के फैमिली क्वार्टर पर हमला किया था, उस दौरान मदनलाल का परिवार भी वहीं था। सूबेदार का परिवार अपने किसी रिश्तेदार की शादी के लिए सामान की खरीदारी करने आया था। जिस दौरान आतंकियों ने हमला बोला तो मदनलाल ने सबसे पहले पीछे के गेट से परिवार वालों को सुरक्षित निकाला और उसके बाद खुद ही आतंकियों से दो-दो हाथ करने लगे। आतंकियों ने उन्हें गोली मारी लेकिन उसके बाद निहत्थे आतंकियों से लड़ते रहे। मदन लाल की वजह से कई परिवार के सदस्यों की जान बच गई। इस गोलीबारी में मदनलाल चौधरी की 20 वर्षीय बेटी नेहा के पैर में गोली लगी, उनके अलावा परिवार के कुछ सदस्यों को मामूली चोट भी आई. लेकिन, किसी को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा। सोशल मीडिया पर लोग शहीद मदन लाल को सलाम ठोंक रहे हैं।

LEAVE A REPLY