ब्लाइंड मर्डर: झज्जर पुलिस ने दो बदमाशों को दबोचा

0
346

चण्डीगढ़ 29 मई – हरियाणा पुलिस की झज्जर टीम ने ब्लाइंड मर्डर की वारदात में शामिल आपराधिक गिरोह का पर्दाफाश कर और दो बदमाशों को चोरी की अपाचे मोटर साईकिल के साथ गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। पकड़े गए अपराधिक गिरोह के दोनों बदमाशों ने मोटरसाइकिल चोरी के दो अन्य मामलों को भी स्वीकार किया है।

पुलिस विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि अपराध जांच शाखा बहादुरगढ़ की टीम द्वारा गांव रिवाड़ी खेड़ा में हुए ब्लाइंड मर्डर के एक मामले को सुलझाने में बड़ी सफलता हासिल की है। पुलिस टीम को एक बाइक पर सवार दो युवक दूर से आते दिखाई दिए। अपाचे बाइक पर सवार युवक सामने पुलिस टीम को देखकर एकदम बाइक को वापिस मोड़कर संदेहजनक हालात में भागने की कोशिश करने लगे। पुलिस टीम द्वारा शक की बिनाह पर तत्परता से कारवाही करके बाइक सहित दोनो युवकों को काबू किया गया। पूछताछ में पकड़े गए दोनो आरोपियों ने अपने नाम राहुल पुत्र सिकन्दर निवासी गांव खरावड़ तथा मोहित पुत्र ओमप्रकाश निवासी गांव खेड़ी साध दोनो जिला रोहतक बतलाये ।

उन्होंने बताया कि पकड़े गए दोनो आरोपियों ने प्रारंभिक पूछताछ में एक अज्ञात अनसुलझी हत्या के मामले का खुलासा हुआ है। 17 अप्रैल 2018 की शाम को गांव रिवाड़ी खेड़ा में हुई हत्या की वारदात का खुलासा करते हुए बताया गांव रिवाड़ी खेड़ा निवासी सुनील उर्फ काला पुत्र फूल सिंह से उनकी कोई रंजिश नही थी। दोनो सेवाराम पुत्र सतपाल निवासी रिवाड़ी खेड़ा को मारने गए थे । क्योंकि सेवाराम 19-4-2017 को अमित उर्फ मीता निवासी रिवाड़ी खेड़ा की हत्या के मामले का मुख्य गवाह था। अमित उर्फ मीता की हत्या विकास दलाल निवासी रिवाड़ी खेड़ा व उसके साथियों ने मिलकर आपसी रंजिश के कारण की थी। मनजीत उर्फ महाल आपराधिक गिरोह के बदमाश विकास दलाल तथा विकास उर्फ जैला निवासी मांडोठी जो तिहाड़ जेल बन्द हैं । जेल से ही दोनों ने सेवाराम की हत्या करने की सुपारी दी थी। पकड़े गए दोनों बदमाश सुनील की हत्या की वारदात से चार-पांच दिन पहले गांव रिवाड़ी खेड़ा में रेकी करके गए थे। 17-04-2018 को दोनों सेवाराम की हत्या करने के इरादे से गांव रिवाड़ी खेड़ा गए थे। सेवाराम और सुनील दोनों गांव में बैठक के बाहर खड़े थे। दोनों ने लगभग एक से ही कपड़े डाल रखे थे। सेवाराम तो अचानक अंदर चला गया और अंधेरा होने के कारण सुनील को सेवाराम समझदार गोलियां मारी गई थी। गोलियां लगने से सुनील की मौत हो गई थी। वारदात के पश्चात दोनों बदमाश मौका से अपने साथियों सहित बाइक पर सवार होकर भाग गए थे । उन्होंने बताया कि सुनील की हत्या की वारदात में इस्तेमाल की गई डिस्कवर मोटरसाइकिल को बदमाशों ने बादली एरिया में लावारिस छोड़ दिया था । बादली एरिया से लावारिस हालत में बरामद की गई डिस्कवर बाइक को उपरोक्त पकड़े गए बदमाशों ने रोहतक सिविल लाइन एरिया से चोरी किया था । उन्होंने बताया कि पकड़े गए दोनों बदमाश आज भी दिल्ली से चोरीशुदा अपाचे बाइक के साथ सेवाराम की हत्या की फिराक में रिवाड़ी खेड़ा आए थे । जो पुलिस की मुस्तैदी के चलते पकड़े गए । दोनों को अदालत बहादुरगढ़ में पेश किया गया । जहां से दोनों को पूछताछ के लिए दो दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया ।

LEAVE A REPLY