पत्थरबाजों के कारण शहीद हुए फरीदाबाद के संदीप, पत्थरबाजों को भी मारी जाये गोली: पाराशर

0
341

फरीदाबाद: अटाली गांव के पैरा कमांडो नायक हवलदार संदीप आज जिंदगी की जंग हार गए। संदीप 40 सीआरपीएफ जवानों को लील लेने वाले पुलवामा अटैक से तीन दिन पहले पुलवामा इलाके में आतंकियों के साथ मुठभेड़ में घायल हो गए थे। इस मुठभेड़ में उन्हें चार गोलियां लगी थीं, वह वेंटिलेटर पर थे। वह टैन पैरा फोर्स के जवान थे। उनके शहीद होने की खबर से फरीदाबाद में जबरजस्त शोक की लहर देखी जा रही है।

बार एसोशिएशन के पूर्व अध्यक्ष एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एडवोकेट एल एन पराशर ने संदीप के की शहादत पर गहरा दुःख जताया है। एडवोकेट पराशर ने कहा कि फरीदाबाद संदीप देश पर कुर्बान हो गए और फरीदाबाद की जनता शहीद संदीप के परिवार की हर तरीके से मदद करेगी। उन्होंने कहा कि संदीप के परिवार की मैं हर संभव मदद अपनी तरफ से करूंगा।वकील पाराशर ने कहा कि मुझे जानकारी मिली है कि पत्थरबाजों के कारण संदीप शहीद हुए हैं इसलिए पत्थरबाजों को भी आतंकियों की तरह गोली मार देनी चाहिए। पाराशर ने कहा कि अगर पत्थरबाजों को जल्द सबक न सिखाया गया तो ये बड़े आतंकी बन जायेंगे और देश की सेना के लिए ये घातक साबित होंगे।

आपको बता दें कि संदीप की पोस्टिंग श्रीनगर में थी। आतंकियों के खिलाफ एक ऑपरेशन में वह 11 फरवरी को घायल हुए थे। संदीप को 4 गोलियां लगी थीं। मुठभेड़ के दौरान कुछ लोगों ने उनकी टीम पर पत्थर भी फैंके, जिसके चलते उन्हें गोलियां लग गईं थीं और आज वो शहीद हो गए।  33 साल के संदीप साल 2005 से सेना में अपनी सेवाएं दे रहे थे। 8 साल पहले गांव दयालपुर की गीता से उनकी शादी हुई थी। अब उनके 3 बच्चे हैं, जिसमें एक 6 साल की बेटी और दो ढाई साल के बेटे हैं। दोनों बेटे जुड़वा पैदा हुए थे। 8 मार्च को उनकी शादी की सालगिरह है।

LEAVE A REPLY