हरियाणा के फरीदाबाद जिले के कोर्ट में जजों पर लगे बड़े आरोप, पैसे लेकर जज सुनाते हैं फैसला?

0
761

चंडीगढ़: हरियाणा के फरीदाबाद जिले के कोर्ट में जज पर सनसनीखेज आरोप लगे हैं। जजों को भ्रष्टाचारी बताया जा रहा है। कोर्ट परिसर में पोस्टर चिपकाये गये हैं। पोस्टरों पर लिखा है कोर्ट में दलाल बन बैठें है जजों के ठेकेदार,, ये पोस्टर जिला बार एसोशिएशन के पूर्व प्रधान एन एल पराशर ने चिपकाये हैं, जिन पोस्टरों में अलग अलग मामलों में जजों की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाये गये हैं। इतना ही नहीं आरोप हैं कि कुछ जजों के ठेकेदारों ने अपराधिक अलग अलग मामलों में अलग अलग पैकेज बना रखे हैं। पराशर ने दावा किया कि जजों के खिलाफ भ्रष्ट्राचार के पुख्ता सबूत है जरूरत पडने पर पेश करेंगे। देश में भ्रष्ट्राचार नाम की दीमक हर विभाग के कोने कोने में लग चुक है अभी तक देश की न्यायपालिका बची हुई थी मगर अब न्याय पालिका पर भी भ्रष्ट्राचार के आरोप लग रहे हैं।
ये बडा मामला फरीदाबाद के कोर्ट परिसर में सामने आया है जहां जिला बार एशोशिएशन के पूर्व प्रधान एन एल पराशर ने फरीदाबाद कोर्ट के कुछ जजों पर भ्रष्ट्राचार के आरोप लगाते हुए उनके पोस्टर भी कोर्ट परिसर में चिपका दिये हैं जिन्हें लोग देख कर आश्चर्यचकित हो रहे हैं।
इस बारे में जजों पर भ्रष्ट्राचार के आरोप लगाने के पोस्टर चिपकाने वाले जिला बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान एन एल पाराशर ने बताया के कोर्ट में कुछ जज अपना ईमान बेच रहे हैं जिनका सौदा दलाल करवाते हैं, फरीदाबाद कोर्ट में कुछ जज पैसे लेकर फैंसला करते हैं यहां तक कि जजों के ठेकेदारों ने अलग अलग अपराधिक मामलों की अलग अलग फीस भी तय कर दी है, अगर किसी को मर्डर केस में बेल चाहिये तो अलग फीस है, अगर किसी को अग्रिम जमानत चाहिये तो अलग फीस है इस तरह सभी अपराधिक मामलों की फीस तक तय कर दी गई है।

कोर्ट में अब उन्हें लोगों को न्याय मिल रहा है जिसके पास पैसे हैं और दलालों से जानकारी है। ऐसे लोगो को न्याय नहीं मिलता जिनके पास पैसे नहीं हैं और जो दलालों से संपर्क नहीं करते। गरीब लोगों की उन धाराओं में भी अग्रिम जमानत खारिज कर दी जाती है जिन धाराओं में उन्हें आराम से जमानत मिल जानी चाहिए लेकिन दलाल दूसरी पार्टी से मिल जजों को पैदा देकर जमानत खारिज करवा देते हैं। कुछ अग्रिम जमानत के मामलों में जज कुछ वक्त का समय इस लिए लेते हैं ताकि सांठगांठ और लेन-देन का समय मिल सके। पराशर ने कहा कि इन आरोपों के उनके पास पुख्ता सबूत भी हैं जिन्हें वह जरूरत पडने पर दिखायेंगे। इतना ही नहीं पाराशर ने कहा है कि कुछ ऐसे भ्रष्ट्र जजों की बजह से पूरी न्यायपालिका पर सबाल उठता है। वही पराशर ने चेतावनी दी है की अगर जल्द ही कोर्ट में भ्रष्टाचार बंद नहीं हुआ तो वो उन भ्रष्ट्र जजों के नाम उजागर कर देंगे।

LEAVE A REPLY