38 मासूम बच्चों की लाशों पर जमकर राजनीति कर रही है कांग्रेस, लोग बोले डायन भी एक घर छोड़ देती है

Suspension of BRD Medical College principal an 'eyewash', says former health minister Azad

नई दिल्ली: देश में कई दशकों तक राज करने वाले दिल्ली से बुरी तरह खदेड़ दिए गए हैं। आखिर ऐसा क्यू हुआ कि कांग्रेस मिट्टी में मिलती चली जा रही है? कुछ तो कारण होगा? जहाँ तक मेरा अंदाजा है इसका कारण है कांग्रेसियों की नकारात्मक राजनीति? कभी जम्मू-कश्मीर के पत्थरबाजों का समर्थन करते हैं, कभी सेना चीफ को गुंडा मवाली कहते हैं, कभी सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाते हैं तो कभी जाति धर्म की राजनीतिक करते हैं। कांग्रेस अगर मिट्टी में मिल रही है तो इसकी जिम्मेदार खुद है, इस पार्टी के कई नेता इसके लिए कैंसर साबित हो रहे हैं जिनके बयान इस पार्टी को दीमग की तरह चाट कर खोखला कर चुके हैं।

उत्तर प्रदेश के बीआरडी कॉलेज में अब मृतकों की संख्या साठ पहुँच गई है। दो और मासूमों ने दम तोड़ दिया है। 38 बच्चों की मौत के बाद यूपी सरकार ने आज कॉलेज के प्रिंसिपल को सस्पेंड करने का फैसला किया। हालांकि कुछ देर बाद ही प्रिंसिपल ने बताया कि वह निलंबन के पहले ही अपना इस्तीफा दे चुके हैं। सरकार द्वारा सस्पेंड किए जाने के बाद बीआरडी कॉलेज के प्रिंसिपल ने कहा कि वह निलंबित होने के पहले ही कॉलेज में बच्चों की मौत की जिम्मेदारी लेते हुए अपना इस्तीफा दे चुके हैं। कांग्रेस इस मुद्दे पर भी राजनीति कर रही है और मिश्रा का सस्पेंड होना पचा नहीं पा रही है, जैसे मिश्रा इनकी पार्टी का कोई नेता हो जबकि सोशल मीडिया की मानें तो मिश्रा पूर्व सीएम अखिलेश का खास है और महाभ्रष्टाचारी है।

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता गुलाम नवी आजाद का कहना है कि मिश्रा का सस्पेंशन कर योगी सरकार लोगों की आँखों में धूल झोंका है, योगी सरकार ने एक बहना बनाया है। गुलाम नवी के इस बयान के बाद लोग भड़क गए हैं। लोगों का कहना है कि कांग्रेस मासूमों के लाशों पर राजनीति चमकाना बंद कर दे। इस बयान पर कुछ प्रतिक्रियाएं आईं हैं। अजय ने लिखा है कि Congress की निम्नस्तर की राजनीति,बच्चो को तो बख्श दो, डायन भी एक घर छोड़ देती है।

loading...

Leave a Reply

*