राहुल, प्रियंका में नहीं दिखा को दम, अब 72 वर्षीय सोनियां गांधी लगाएंगी कांग्रेस के जख्मों पर मरहम

0
359

नई दिल्ली: कांग्रेस ने जब प्रियंका गांधी को लांच किया था तो लग रहा था कि कांग्रेस इस बार कुछ अलग कर सकती है और लोकसभा चुनावों में 100 के पास पहुँच सकती है और इससे ज्यादा सीटें भी मिल सकतीं हैं लेकिन अब ऐसा नहीं लगता कि प्रियंका का कोई खास जादू लोकसभा चुनावों में देखा जा सकेगा। प्रियंका राबर्ट वाड्रा की पत्नी हैं और भाजपा जब चाहेगी तब प्रियंका का असली रूप जनता के सामने पेश कर सकती है। पिछले चुनावों में भी वाड्रा कांग्रेस पर भारी पड़े थे। जमीन खरीद फरोख्त को लेकर उन्हें अब तक कोर्ट कचहरी का चक्कर लगाना पड़ रहा है। प्रियंका के आने के बाद भाजपा इस मुद्दे को कुछ ज्यादा ही उछालने जा रही थी तभी पुलवामा में आतंकी हमला हो गया और उसके बाद भाजपा ने जो कुछ किया उससे मोदी सरकार और मजबूत हुई। भले ही बालाकोट की लाशें नहीं दिखीं लेकिन मोदी का ग्राफ बढ़ा है। मोदी के बढे ग्राफ को देख कांग्रेस कुछ सोंचने पर मजबूर हो गई है और अब सोनिया गांधी मैदान में उतर सकती हैं।

कहा जा रहा था कि सोनिया गांधी रिटायर हो चुकी हैं लेकिन हालात देख वो जल्द जनता के सामने आ सकती हैं। वो इस समय 72 साल की हैं और कई बार उनकी तबियत भी ख़राब हो चुकी है। हरियाणा अब तक को अपने कांग्रेस के सूत्रों से पता चला है कि कई वरिष्ठ कांग्रेसी नेता उनसे अनुरोध कर रहे हैं कि आप आएं और कांग्रेस को आगे बढ़ाएं। यही कारण है कि कांग्रेस ने रायबरेली से उन्हें उम्मीदवार बनाया है। काफी समय से इस बात की चर्चाएं थीं कि सोनिया गांधी 2019 के आम चुनाव में नहीं उतरेंगी और अब पूरी कमान राहुल गांधी संभालेंगे। खासतौर पर प्रियंका गांधी को पार्टी का महासचिव बनाए जाने के बाद से इन चर्चाओं को और बल मिला था। कहा यह भी जा रहा था कि प्रियंका गांधी को रायबरेली से उम्मीदवार बनाया जा सकता है। अब जब राहुल और प्रियंका दोनों कमजोर साबित होने लगे हैं तो सोनिया गांधी को फिर मैदान में उतारा जा रहा है। पहली लिस्ट में उनका नाम इस बात का सबूत है।

LEAVE A REPLY