पल भर में अपने पिता की राजनीति और उनकी पार्टी की इज्जत को मिट्टी में मिला देती हैं बिगड़ैल औलादें

0
411
Some BJP Leaders Son Not Good For Party

चंडीगढ़: बड़ा नेता बनने के लिए आजकल किसी भी पार्टी के कार्यकर्ता बहुत पसीना बहाते हैं। कई कार्यकर्ताओं को उनकी मेहनत का फल भी मिलता है और वो बड़े नेता मंत्री बन जाते हैं। कुछ नेताओं की किस्मत अच्छी होती है और वो बड़े पद पर पहुँच जाते हैं लेकिन कुछ नेताओं की किस्मत उनकी औलादें मिट्टी में मिला देतीं हैं। हरियाणा भाजपा अध्यक्ष सुभाष बराला की राजनीतिक छबि उनके बिगड़ैल बेटे ने पल में मिट्टी में मिला दी साथ में पूरे भाजपा की भी फजीहत करवा रहा है। ठीक इसी तरह मॉडल जेसिका लाल के हत्यारे पूर्व केंद्रीय मंत्री विनोद शर्मा के बेटे सिद्धार्थ वशिष्ठ उर्फ मनु शर्मा ने पिता की राजनीतिक जीवन को ऐसा मिट्टी में मिलाया कि वो आज तक उभर नहीं सके। सालों पहले दिल्ली युवक कांग्रेस के अध्यक्ष सुशील शर्मा ने ‘तंदूर कांड’ अपनी पारी की जमकर फजीहत करवाई थी जिसने नैना साहनी की ह्त्या की थी।
इसी तरह पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम के बेटे ने उनकी जमकर फजीहत करवाई थी। सूत्रों की मानें कुछ नेताओं के परिजनों पर सत्ता का नशा चढ़ जाता है जिस कारण वो अपनों की राजनीतिक भविष्य मिट्टी में मिला देते हैं। पूर्व रेल मंत्री पवन बंसल के भांजे विजय सिंगला ने एक घूंसकांड कर पवन बंशल जैसे अच्छे नेता का राजनीतिक कैरियर तवाह कर दिया था। देश में कई ऐसे नेता हैं जिनके परिजन सत्ता के नशे में महा घमंडी हैं जो किसी को नहीं अपने परिवार और अपनी पार्टी का सत्यानाश कर सकते हैं। ऐसे घमंडी और बिगड़ैल नेताओं के परिजनों को शायद ये नहीं पता कि उनकी पार्टियों के सैकड़ों ही नहीं हजारों लोग सोशल मीडिया पर रातदिन मेहनत करके अपनी पार्टी की छबि चमकाने का काम करते हैं। पार्टी की मान मर्यादा बढ़ाते हैं और ये बिगड़ैल औलादें पल भर में किये कराये पर पानी फेर देते हैं।

LEAVE A REPLY