राज्य सभा LIVE: सवर्णों के वोटों के लिए मोदी के मारे गए छक्के की गेंद शायद ही लपके विपक्ष?

0
165

नई दिल्ली: समान्य वर्ग को दस फीसदी आरक्षण देने वाले संविधान संशोधन विधेयक को मंगलवार को लोकसभा में पारित कराने के बाद सरकार आज (बुधवार) इसे राज्यसभा में पेश कर दिया है और बिल पर चर्चा जारी है। दोपहर पहले शुरू हुई इस चर्चा के दौरान देश के विभिन्न पार्टियों के नेताओं की बहस सुनने के बाद ऐसा लगा कि कुछ नेता मजबूरी वश इस बिल का समर्थन कर रहे हैं। ऐसे नेता पहले इधर उधर की बातें करते हैं फिर कहते हैं कि हम इस बिल के खिलाफ नहीं हैं। ये नेता पहले मोदी सरकार को जमकर कोसते हैं और अंत समय में कहते हैं कि हम इस बिल का समर्थन कर रहे हैं। इन नेताओं को शायद अच्छी तरह से पता है कि अगर ये खुलकर इस बिल का विरोध करेंगे तो लोकसभा चुनावों में सामान्य वर्ग का वोट खो देंगे। कुछ नेताओं को पता है कि वो चीज पचा नहीं पाएंगे लेकिन जनता के सामने वो चीज निगलकर दिखाना भी जरूरी है वरना जनता नाराज हो जाएगी।

फिलहाल हम यहाँ किसी पार्टी के नेता या किसी पार्टी का नाम नहीं ले रहे हैं लेकिन इन नेताओं की बहस के दौरान इनका दर्द आप साफ़ समझ सकते हैं।कांग्रेस के सामने इधर कुआं, उधर खाईं है, ये बिल अगर आज राज्य सभा में पास न हुआ तो कांग्रेस सवर्णों के लिए खलनायक बन जाएगी और कांग्रेस इस बात को अच्छी तरह से जानती है इसलिए फूंक फूंक कर कदम रखा जा रहा है। तमाम कांग्रेसी नेताओं की बहस के दौरान देखा गया कि पहले वो कुछ भी बोलें लेकिन अंत में बिल के समर्थन करने की बात कर रहे हैं।

शीतकालीन सत्र के अंतिम दिनों में मोदी सरकार ने क्या जबरजस्त सिक्सर मारा है। विपक्ष चाहे तो सिक्सर की बाल कैच कर सकती है लेकिन ऐसा लगता है कि विपक्ष गेंद के पीछे भागेगा और हाँथ में गेंद आ भी जाएगी तो जानबूझकर गेंद जमीन पर गिरा देगा। राजनीति में सब कुछ चलता है और वोट के लिए तो नेता हर हद तक पहुँच जाते हैं। राज्य सभा में विपक्ष का कोई नेता कहता दिख रहा है कि ये बिल अभी क्यू लाया गया तो कोई कहता है सुप्रीम कोर्ट में ये बिल लटक जाएगा। कोई कह रहा है की भाजपा जनता को गुमराह कर रही है तो कोई कह रहा है, इस आरक्षण से किसे का कोई भला नहीं होगा और कई नेता इनमे ऐसे हैं जो अन्य आरक्षण की मांग को लेकर सड़कों पर उतरते देखे गए थे। ये पूरा ड्रामा आप लाइव देख सकते हैं अगर आप के पास स्मार्ट फोन है।

आप घर होंगे तो टीवी पर ये बहस देख सकते हैं लेकिन कहीं और हों तो इस लिंक पर लाइव देखें। इस लिंक पर विपक्षी नेताओं का दर्द आप समझ सकेंगे। कुछ नेताओं की बहस देख ऐसा लग रहा है कि सार्वजनिक या राज्य सभा में तो ये आंसू नहीं बहा पा रहे हैं लेकिन इनकी रात्रि में नींद हराम हो सकती है। ये क्या कर दिया मोदी सरकार ने, वैसे युद्ध में ब्रम्हास्त्र कमाल का अस्त्र होता है। देखें आगे के कुछ नेताओं की बहस इस लिंक पर

LEAVE A REPLY