एक आँसू भी हुकूमत के लिए ख़तरा है, तुमने देखा नहीं आँखों का समुंदर होना: राहुल गांधी

0
666

नई दिल्ली: नोटबंदी के एक साल पूरे होने पर सोशल मीडिया पर तरह तरह के ट्रोल चल रहे हैं। सभी बड़े नेताओं की निगाहें सोशल मीडिया पर हैं। पीएम मोदी से लेकर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी तक सोशल मीडिया पर नोटबंदी दिवस अपने अपने तरीके से मना रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने ‘काला धन विरोध दिवस’ के हैशटैग के बुधवार सुबह ट्वीट किया कि काले धन और भ्रष्टाचार मिटाने के लिए सरकार की तरफ से उठाए सख्त कदमों का बढ़ चढ़कर समर्थन के लिए भारतवासियों को मैं नमन करता हूं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने अंदाज में पीएम मोदी को जबाब दिया है। राहुल के अंदाज अब निराले होते जा रहे हैं। वो शायरी करने लगे हैं।

राहुल गांधी ने नोटबंदी के दौरान वायरल हुए एक तस्वीर के साथ ट्वीट किया है और उन्होंने लिखा, ‘एक आंसू भी हुकूमत के लिए खतरा है, तुमने देखा नहीं आंखों का समुंदर होना.’ ये तस्वीर गुरुग्राम के उसी बुजुर्ग की है जो वर्तमान में सरकार के साथ खड़ा है जिसका कहना है कि सरकार ने जो किया अच्छा किया। ये बुजुर्ग पिछले साल चार घंटे लाइन में खड़ा था। पैसे नहीं मिले थे तो फूट-फूट कर रोने लगा था। इस बुजुर्ग का नाम नंदलाल है। नंदलाल बंटवारे के वक्त पाकिस्तान से आकर गुरुग्राम में बस गए थे। उनकी पत्नी की मौत करीब तीन दशक पहले हो गई थी। अब उनका पूरा दिन कमरे और पास की चाय की दुकान पर ही बीतता है। वे भारतीय सेना के पूर्व सैनिक हैं। आज उन्ही की तस्वीर ट्विटर और फेसबुक पर वाइरल  किया जा रहा है। राहुल गांधी ने भी वही तस्वीर अपने ट्विटर पर पोस्ट किया है।

LEAVE A REPLY