सिर्फ कागजों तक सीमित है हरियाणा सरकार का सफाई अभियान

0
431
Only the cleanliness drive of Haryana Government is limited to papers

नई दिल्ली: पूरे देश में स्वच्छ अभियान चलाया जा रहा है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत को पूर्ण रूप से स्वच्छ बनाना चाहते हैं लेकिन इसके लिए पीएम को बहुत मेहनत करनी पड़ेगी क्यू कि देश के अफसर बेलगाम हैं, साफ सफाई करवाने का ढोंग करते हैं, फोटो खिंचवाकर अखबारों तक सीमित रहते हैं। सफाई करते हुए की फोटो अपने सोशल मीडिया के पेज पर डालकर उसे अपने राज्य के बड़े नेताओं को टैग कर इति श्री कर लेते हैं। हरियाणा सरकार ने एक हफ्ते पहले स्वच्छ भारत मिशन को साकार करने की दिशा में एक और कदम आगे बढ़ाते था जिसके मुताबिक़ सरकार ने राज्य के सभी दस नगर निगमों में ‘स्वच्छ मैप’ मोबाइल एप्लीकेशन का सफल क्रियान्वयन शुरू किया था। इसके मुताबिक़ कोई भी व्यक्ति ‘स्वच्छ मैप’ मोबाइल एप्लीकेशन से कचरे की फोटो खींच कर नगर निगम की इस एप्लीकेशन पर अपलोड कर सकता है। फोटो अपलोड होने के बाद कचरे की लोकेशन भी दिखाई देगी।

इस प्रकार खींची गई फोटो वार्ड के सुपरवाइजर तक पहुंच जाएगी और उसके बाद सुपरवाइजर की जिम्मेवारी होगी कि वह उस जगह की सफाई कराए। अगर समय-सीमा के अंदर सफाई सुनिश्चित नहीं हुई तो सेनेटरी इंस्पेक्टर, नगर निगम आयुक्त और मुख्यमंत्री कार्यालय तक इसकी रिपोर्ट जाएगी। फरीदाबाद का एक युवक इन अधिकारियों और नेताओं पर भरोषा करके 21 सितम्बर को कूड़े कचरे की तस्वीर ‘स्वच्छ मैप’ पर पोस्ट कर दिया लेकिन आज पांच दिन हो गए कूड़ा वहीं पड़ा है। फरीदाबाद की जवाहर कालोनी में रहने वाले सचिन भारद्वाज ने कूड़े की तस्वीर पोस्ट की थी जिनका कहना है कि ये एक स्कूल के पास की तस्वीर थी जहां से बच्चे कीचड से निकलकर स्कूल जाते हैं और यहाँ बदबू इतनी ज्यादा है कि हर कोई मुँह पर हाँथ रखकर यहाँ से निकलता है। यही देख उन्होंने ये तस्वीर ‘स्वच्छ मैप’ पर पोस्ट की लेकिन अब तक कोई सफाई नहीं हुई। हरियाणा सरकार के अभियान सिर्फ कागजों तक सीमित होकर रह जा रहे हैं जिस कारण सरकार कमजोर पड़ती जा रही है।

LEAVE A REPLY