नेताओं को बहुत याद आने लगीं ये नोटें, कल छाती पीट, दहाड़ें मार-मारकर रोयेंगे कई बड़े नेता?

नई दिल्ली: नोटबंदी की सालगिरह से एक दिन पहले देश के बड़े नेताओं में ज़ुबानी दंगल शुरू हो गई है। गुजरात में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने नोटबंदी और जीएसटी को लेकर मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। मनमोहन सिंह ने नोटबंदी को एक बार संगठित लूट बताया। उन्होंने कहा कि आठ नवंबर हमारे देश के लोकतंत्र और अर्थव्यवस्था के लिए एक काला दिन था कल हम अपने देश के लोगों पर एक विनाशकारी नीति थोपे जाने का एक साल पूरा कर लेंगे। इसी मुद्दे पर प्रेस वार्ता कर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने नोटबंदी को सरकार का सही कदम बताया और कहा कि देश डिजिटल लेनदेन की तरफ बढ़ रहा है। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि ये कठिन फैसले देश हित में लिए गए हैं और धीरे-धीरे ये फैसले एक अच्छे फैसले साबित होंगे। पूर्व पीएम के बयान पर कई भाजपा नेताओं की प्रतिक्रियाएं आ रहीं हैं जिनमे कहा जा रहा है कि मनमोहन सिंह ने अपने 10 साल के कार्यकाल में जुबान नहीं खोली और जमकर घोटाले इनके बड़े बड़े नेता करते रहे। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने लिखा है कि Will Dr. Manmohan Singh apologise for policy paralysis, development stagnation & rampant corruption during 10 years of UPA? #SpeakUpMMS इसी ट्वीट पर कुछ कमेंट्स आ रहे हैं जिनमे कहा जा रहा है कि कई पार्टियों के नेताओं को बंद हुई 1000 और 500 की नोटे बहुत याद आने लगीं हैं और ये नेता कल इन नोटों की याद में दहाड़े मार-मारकर रोयेंगे, मातम मनाएंगे। कुछ यूजर नोटबंदी और जीएसटी को लेकर पीएम मोदी और भाजपा पर भी तंज कस रहे हैं।

loading...

Leave a Reply

*