सर छोटूराम की मूर्ति थमने सौंपने आया सूं, इसतै बड़ा मेरे खातर के हो सकै-नरेन्द्र मोदी

0
259

अनूप कुमार सैनी, गढ़ी-सांपला-रोहतक 9 अक्टूबर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि सामाजिक समरसता और राष्ट्रीय एकता के लिए लडऩे वाल राष्ट्रीय महापुरूष दीनबंधु सर छोटूराम को सच्ची श्रद्धांजलि तब मिलेगी, जब हम सब मिलकर उनके सपनों के नए भारत का निर्माण करेंगे। वे आज रोहतक के गढ़ी-सांपला गांव में दीनबंधु सर छोटूराम की प्रतिमा का अनावरण व उनसे जुड़ी चीजों के संग्राहलय का उद्घाटन करने तथा सोनीपत के बड़ी में बनने जा रही रेल कोच रिपेयर फैक्ट्री की आधारशिला रखने के उपरांत उपस्थित जनसमूह को संबोधित कर रहे थे। प्रधानमंत्री ने हरियाणावी अंदाज में कहा कि देश की सीमा पै रक्षा करण में सबतै घणै जवान, देश की करोडों आबादी का पेट भरण में सबते आग्गे किसान, अर खेलां में सबते ज्यादा मैडल जीतण आलै खिलाडी देण आली हरियाणे की धरती नैं मैं प्रणाम करूं हूं। उन्होंने कहा कि देश में हरियाणवीयों का कोई मुकाबला नहीं हैं। उन्होंने पुन: हरियाणवी अंदाज में कहा कि सर छोटूराम की मूर्ति थमने सौंपने आया सूं, इसतै बड़ा मेरे खातर के हो सकै।

उन्होंने कहा कि आज उन्हें गढ़ी सांपला में किसानों की आवाज उठाने वाले और किसानों के मसीहा जिन्हें रहबर-ए-आजम भी कहा जाता है। सर छोटूराम की विशाल और भव्य प्रतिमा का अनावरण करने का अवसर प्राप्त हुआ है। आज ही उन्होंने हरियाणा की सबसे ऊंची मूर्ति के अनावरण के साथ-साथ संग्राहलय का भी उद्घाटन किया है, जो रोहतक की एक नई पहचान बन गई है। पीएम ने कहा कि आज उन्होंने सर छोटूराम की मूर्ति का अनावरण हरियाणा में किया है तो वहीं आने वाली 31 अक्टूबर को सरदार वल्लभ भाई पटेल की दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति का अनावरण भी वे करेंगे। उन्होंने इन दोनों महापुरुषों को किसानों के साथ जोड़ते हुए कहा कि ये दोंनो महाुपरुष किसान थे और इन्होंने किसानों के लिए और किसानों को आपस में जोडऩे का काम किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि समय-समय पर महान विभूतियों ने जन्म लिया हैं और समाज की सेवा के लिए तथा देश को दिशा दिखाने के लिए अपने आपको हर चुनौती पार कर खपा दिया है। ऐसे महापुरुषों ने चुनौतियों का सामना कर देश का आगे बढ़ाया है। ऐसे महापुरुषों में हरियाणा में दीन बंधू सर छोटू राम ने जन्म लिया जो एक समाज सुधारक थे और इनकी भारत के निर्माण में एक महत्वपूर्ण भूमिका रही। उन्होंने कहा कि सर छोटू राम किसानों, शोषितों और पीडि़तों की आवाज थे और वे हर शक्ति का सामने से डट कर मुकाबला करते थे। उन्होंने कृषि, किसानों, छोटे उद्यमियों के सामने आने वाली चुनौतियों को समझा और सदा ही चुनौतियों को कम करने का प्रयास किया।
इस मौके पर केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर, तथा राज्य सरकारों के मंत्रीगण, सांसद, विधायक, विभिन्न बोर्डों व निगमों के चेयरमैन, अध्यक्ष सहित अन्य अनेक
गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY