पेट्रोल के दामों में जबरजस्त बढ़ोत्तरी, तेल कंपनियां मालामाल, घिरी मोदी सरकार

Massive jump in petrol rates after dynamic pricing – Decoding the price rise

नई दिल्ली: हर रोज बढ़ रहे पेट्रोल की कीमतों को लेकर मोदी सरकार चौतरफा घिरने लगी है। सभी विपक्षी पार्टियां सरकार कोई आइना दिखाने लगीं हैं। वर्तमान समय में दिल्ली में पेट्रोल 70 रूपये पार कर गया है तो मुंबई में 80 रूपये पहुँचने वाला है जबकि कच्चे तेल की कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में काफी घट गई है।  वित्त वर्ष 2013-14 में अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल 105 डॉलर प्रति बैरल था. तब घरेलू बाजार में पेट्रोल की कीमत 70 रुपए प्रति लीटर थी।  सब्सिडी खत्म करने यूपीए सरकार ने पेट्रोल की कीमतों को बाजार के हवाले कर दिया है. इसका सीधा मतलब है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड के भाव में उतार-चढ़ाव के मुताबिक ही घरेलू बाजार में पेट्रोल की कीमतें तय होंगी। लेकिन मौजूदा अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल 48.18 डॉलर प्रति बैरल पर चल रहा है ऐसे में दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 70. 30 तो मुंबई में 79.41 प्रति लीटर पहुँच गई है।  कहा जा रहा है कि तेल कंपनियां सरकार के सहयोग से जमकर माल बटोर रहीं हैं। सरकार तेल कंपनियों पर लगाम नहीं लगा पा रही है। कुछ न कुछ गड़बड़झाला जरूर है।

loading...

Leave a Reply

*