जींद की जनता ने बढ़ाया खट्टर का कद तो सैकड़ों करोड़ लेकर जींद पहुंचे खट्टर

0
332

चण्डीगढ़, 11 फरवरी- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाने एवं हस्पतालों में डॉक्टरों की कमी को पूरा करने के लिए प्रत्येक जिले में एक-एक मैडिकल कॉलेज बनवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि फिलहाल 750 नए डॉक्टर हर साल प्रदेश को मिल रहे है और वर्तमान सरकार ने आगामी कुछ वर्षों में इस संख्या को बढ़ाकर दो हजार करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

श्री मनोहर लाल ने यह जानकारी आज जींद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए दी। इसे पूर्व, उन्होंने यहां लगभग 46 करोड़ 30 लाख रुपए की लागत की 12 विकास परियोजनाओं का उदघाटन एवं शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि जींद हरियाणा प्रदेश का एक ऐसा जिला है जो सात राष्ट्रीय राजमार्गों से जुड़ा हुआ है। जींद जिले का तेजी से विकास हो रहा है। पिछले चार वर्षों में वर्तमान सरकार ने प्रदेश में अनेक विकास कार्य करवाकर विकास की रफ्तार को काफी तेज किया है।

उन्होंने कहा कि युवाओं को सरकारी नौकरियां मैरिट के आधार पर दी जा रही है। युवाओं को अधिकाधिक नौकरी मिल सकें, इसके लिए औद्योगिक ईकाईयां स्थापित करवाने के प्रयास किए जा रहे है और कई जिलों में तेजी से औद्योगिक ईकाइयां स्थापित भी हो रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जींद शहर के लोगों को नहरी आधारित पर्याप्त स्वच्छ पेयजल उपलब्ध करवाने के लिए एक विस्तृत कार्य योजना पर काम चल रहा है। इस विकास परियोजना के पूरा होने पर शहर को पानी की किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं रहेगी। इस विकास परियोजना पर लगभग 400 करोड़ रुपए की धनराशि खर्च की जाएगी।

उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि पिछली सरकारों ने जींद जिले को मात्र रैली स्थल के रूप में प्रयोग किया और इस जिले के विकास की ओर कोई ध्यान नहीं दिया। जिसके परिणामस्वरूप यह जिला विकास के मामले में काफी पिछड़ गया। पिछले चार सालों में वर्तमान सरकार ने इस जिला के विकास के लिए अनेक कार्य किए। यहां बागवानी विश्वविद्यालय का रिजनल सैंटर का निर्माण कार्य शुरू करवाया, जींद में बाईपास बनाने का कार्य लगभग पूर्ण कर लिया गया है, पिण्डारा गांव के पास नए बस अड्डे का निर्माण कार्य चल रहा है। इनके अलावा अनेक विकास कार्य इस जिला के विकास को लेकर किए गए है। उन्होंने यह भी कहा कि जींद जिला के विकास के लिए कोई कौर-कसर बाकी नहीं रखी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने जींद के लोक निर्माण विश्राम गृह में 12 विकास परियोजनाओं का उद्दघाटन एवं शिलान्यास किया। उन्होंने जींद-पानीपत के नीचे बना अंडर ब्रिज का उद्दघाटन किया। इस विकास परियोजना पर 15 करोड़ रुपए की धनराशि खर्च की गई है। मुख्यमंत्री ने जींद-सफीदों रोड से जींद-गोहाना रोड़ तक 5 करोड़ 50 लाख रुपए की लागत से सडक़ के जिर्णाेद्वार, ईगराह गांव में 4 करोड़ 13 लाख रुपए की लागत से बनने वाले स्वतंत्र जलघर, बरसोला से ढाण्डा खेड़ी गांव तक 2 करोड़ 5 लाख रुपए की लागत से बनने वाली सडक़, गोबिन्दपूरा गांव में 7 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले स्वतंत्र जलघर, करसिंधू से गैंडाखेड़ा, करसिंधू से रोजखेडह़ा, करसिंधू से कुचराना तक 5 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाली तीन सडक़ो, बूराडहैर से किनाना तक एक करोड़ 18 लाख रुपए की लागत से बनने वाली सडक़, बीबीपूर से बुआना तक, पोंकरी खेड़ी से बीबीपूर तक, रामराय से बीबीपूर तक 4 करोड़ 89 लाख रुपए की लागत से बनने वाली तीनों सडक़ों, जींद शहर में नरवाना-जींद -रोहतक रोड तक एक करोड़ रुपए की लागत से होने वाले सडक़ जिर्णाेद्वार के कार्यों का शिलान्यास किया। इसके बाद मुख्यमंत्री ने लोगों की शिकायतों/ समस्याओं को भी सुना। उन्होंने लोगों द्वारा रखी शिकायतों एवं समस्याओं के समाधान के लिए मौके पर ही अधिकारियों को निर्देश दिए।

इस अवसर पर जींद के विधायक कृष्ण लाल मिढ्ढा, सफीदों के विधायक जसबीर देशवाल, बीजेपी के प्रदेश सचिव जवाहर सैनी, बीजेपी जिला अध्यक्ष अमरपाल राणा, पूर्व मंत्री सुरेन्द्र बरवाला, सहित कई वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY