परमानेंट लोक अदालत में बैठा रखे हैं दिहाड़ी मजदूर, यहां भी लोगों को मिलती है तारीख पर तारीख: LN पाराशर

0
307

फरीदाबाद:बार एसोशिएशन के पूर्व अध्यक्ष एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एडवोकेट एल एन पाराशर ने अब परमानेंट लोक अदालत पर बड़ा सवाल उठाया है। एडवोकेट पाराशर का कहना है कि परमानेंट लोक अदालत में दिहाड़ी मजदूर काम कर रहे हैं जिन्हे क़ानून की कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि ये लोक अदालत इसलिए बनाई गई थी कि सीनियर सिटीजन एवं कुछ अन्य मामलों का निपटारा जल्द हो लेकिन यहां भी तारीख पर तारीख दी जाती है क्यू कि इस अदालत में स्टाफ नहीं है। कुछ लोग जो यहां काम कर रहे हैं उन्हें क़ानून की जानकारी नहीं है इसलिए यहां पीड़ित को लम्बी तारीख दी जाती है।

वकील पाराशर ने कहा कि लोक अदालत में ऐसे लोग आते हैं जो तुरंत न्याय चाहते हैं लेकिन जनता को यहां भी तारीख पर तारीख ही मिलती है जल्द न्याय नहीं मिलता। उन्होंने कहा कि सरकार हर स्कीम जनता के फायदे के लिए निकालती है लेकिन धरातल पर जनता को इन स्कीमों का फायदा नहीं मिलता। उन्होंने कहा कि परमानेंट लोग अदालत में तजुर्बेकार और क़ानून की जानकारी रखने वालों को बैठाया जाए ताकि जनता को यहाँ जल्द न्याय मिल सके। उन्होंने कहा कि इसकी शिकायत मैं सरकार से करूंगा और दो अक्टूबर के सेमीनार में इस पर भी चर्चा की जाएगी। वकील पाराशर ने बताया कि कल 12 तारीख को वो युवा वकीलों को किताबें बांटेंगे। अब कुल पांच सेट दिए जाएंगे। भ्रष्टाचार अधिनियम की एक किताब और वकीलों को दी जाएगी। उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूँ कि फरीदाबाद के युवा वकील अच्छा ज्ञान हासिल कर अच्छी तरह प्रैक्टिस करें।

LEAVE A REPLY