48 घंटों में 54 मौतें जिनमे 36 बच्चे, ये हादसा नहीं ह्त्या है

LIVE: 30 children die in 48 hours at Gorakhpur hospital

नई दिल्ली/गोरखपुर: देश में सरकारी अस्पतालों की लापरवाही कोई नई बात नहीं है। यही कारण है कि लोग सरकारी अस्पतालों में जाने से कतराते हैं। अधिकतर गरीब ही ऐसी अस्पतालों में जाते हैं। गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में पिछले 48 घंटों के भीतर 54 की मौत हो गई है। इनमें 36 बच्चे शामिल हैं। मौतों का आंकड़ा और बढ़ सकता है । बताया जा रहा है कि ये मौतें लिक्विड ऑक्सिजन की कमी से हुईं, हालांकि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार इससे इनकार कर रही है। अब ये मौतें कैसे हुईं जाँच का विषय है। विपक्ष उत्तर प्रदेश सरकार को घेर रहा है। कई बड़े कांग्रेसी नेता आज गोरखपुर पहुँचने वाले हैं। जानकारी मिल रही है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और यूपी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बबर आज गोरखपुर में बीआरडी कॉलेज का दौरा करेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने इस हादसे पर दुख जताया है। भाजपा नेता एवं उत्तर प्रदेश के हेल्थ मिनिस्टर सिद्धार्थ सिंह का बयान आया है कि विपक्ष इस मुद्दे पर राजनीति न करे, मामले की जांच करवाई जा रही है।

बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज पुलिस छावनी में तब्दील हो चुका है। चारों तरफ पुलिस ही पुलिस दिखाई दे रही है। गोरखपुर के पास बांसगांव के बीजेपी सांसद कमलेश पासवान को भी बच्चों की मौत के पीछे वजह ऑक्सीजन का ठप हो जाना लगती है। खुद जिलाधिकारी ने माना है कि अस्पताल की तरफ से ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली का बकाया था। कहीं न कहीं बड़ी लापरवाही हुई है देखना है कौन इन मौतों का जिम्मेदार साबित होता है।ट्विटर पर एक युवक ने लिखा है कि  दुर्भाग्य है इस देश का,, सरकारी अस्पताल ऑक्सीजन की कमी से मार देते है और निजी अस्पताल फालतू का ऑक्सिजन चढ़ा चढ़ा के?कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी का कहना है कि ये हादसा नहीं हत्या है। उन्होंने कहा कि जिन बच्चों के आक्सीजन लगाईं गई थी अचानक उसकी सप्लाई बंद कर दी गई और उन बच्चों को मार डाला गया।

loading...

Leave a Reply

*