फरीदाबाद में ट्रेन ने युवती को लूट रहे लुटेरों पर बाज की तरह टूट पड़ा सेना का ये युवा कैप्‍टन

0
942

नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर सेना के एक अधकारी की जमकर तारीफ़ हो रही है। एक जानकारी के मुताबिक़ दादर एक्सप्रेस में सफर कर रही एक युवती को दो लुटेरों ने लूटने का प्रयास किया लेकिन इंडियन आर्मी के लेफ्टीनेंट आशीष कुमार की बहादुरी के चलते लुटेरे कामयाब नहीं हो पाए। घटना छह मई की सुबह करीब 3.30 बजे मुंबई से अमृतसर जा रही दादर एक्‍सप्रेस में घटित हुई. दादर एक्सप्रेस जैसे ही फरीदाबाद रेलवे स्‍टेशन से गुजरी, किसी ने चेन पुलिंग कर दी। ट्रेन के रुकते ही एसी टू टायर के कोच नंबर ए-1 में दो लुटेरे घुस आए. दोनों लुटेरों ने पहले पूरे कोच में कई चक्‍कर लगाकर मुसाफिरों की रेकी की। इस दौरान दोनों लुटेरों को लोअर बर्थ पर गहरी नींद में सो रही एक युवती नजर आ गई। मौके का फायदा उठाकर दोनों इस युवती की सीट के नीचे रखे सामान को लेकर जाने लगे. हालांकि लेफ्टीनेंट की बहादुरी के चलते उनकी यह कोशिश नाकाम हो गई. उल्‍लेखनीय है कि कुछ दिनों पहले ही रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के एक कॉन्स्टेबल ने भी बहादुरी की मिसाल पेश करते हुए एक महिला की इज्जत बचाई थी।

इसी बीच, दोनों लुटेरों पर अपर बर्थ पर लेटे लेफ्टीनेंट आशीष कुमार की नजर पड़ गई. लेफ्टीनेंट आशीष ने दोनों युवकों को ललकारते हुए रोका. रंगे हाथों पकड़े गए दोनों लुटेरों ने लेफ्टीनेंट आशीष को डराने के लिए चाकू निकाल लिया। दोनों लुटेरों को यह नहीं मालूम था कि जिस लड़के को वह चाकू से डराने की कोशिश कर रहे हैं, वह भारतीय सेना का अधिकारी है. चाकू की परवाह किए बगैर लेफ्टीनेंट आशीष लुटेरों पर टूट पड़े. हाथापाई के दौरान लुटेरों ने लेफ्टीनेंट आशीष पर चाकू से कई वार किए. जिससे लेफ्टीनेंट आशीष का एक हाथ बुरी तरह से लहूलुहान हो गया। लहूलुहान होने के बावजूद कैप्‍टन आशीष ने लुटेरों पर अपनी गिरफ्त ढीली नहीं की. हालांकि आखिर में दोनों लुटेरे किसी तरह ट्रेन से कूद कर फरार होने में सफल हो गए।

दिल्‍ली रेलवे पुलिस के वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार लेफ्टीनेंट आशीष एवं वारदात का शिकार हुई युवती ने छह मई की शाम इस बाबत हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्‍टेशन पुलिस को इस बाबत सूचना दी. मामला फरीदाबाद से जुड़ा होने के चलते पीड़ित को हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्‍टेशन पुलिस स्‍टाफ के साथ फरीदाबाद पुलिस के पास भेज दिया गया. फरीदाबाद रेलवे पुलिस ने इस बाबत मामला दर्ज कर दोनों लुटेरों की तलाश शुरू कर दिया है। पुलिस के अनुसार, लेफ्टीनेंट आशीष मुंबई से चलने वाली दादर एक्‍सप्रेस से अंबाला जा रहे थे. वह अंबाला स्थिति आर्मी बेस में तैनात है. लेफ्टीनेंट आशीष की इस बहादुरी को लेकर रेलवे प्रशासन, रेलवे पुलिस और पीड़ित युवती ने तारीफ की है। सोशल मीडिया पर भी इस अधिकारी की जमकर तारीफ़ हो रही है।

LEAVE A REPLY