बेटे के खिलाफ केस दर्ज होने से फंदे पर लटक गया पिता, तूल पकड़ा मामला

0
218

कुरुक्षेत्र। राकेश शर्मा: गांव बारवा में झूठे केस में फंसाने के चलते मानसिक दबाव झेल रहे सतपाल द्वारा आत्महत्या करने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। सतपाल ने बुधवार को अपने व बेटे के खिलाफ झूठा मामला दर्ज करने के चलते बाड़े में खड़े पेड़ से लटक कर आत्महत्या कर ली थी। जबकि इससे दो दिन पूर्व गांव के ही बलदेव ने मारपीट के मामले में सतपाल व उसके बेटे दीपक के खिलाफ मामला दर्ज कराया था। बुधवार को सतपाल द्वारा आत्महत्या करने के बाद से थाना केयूके आदर्श पुलिस ने बलदेव व अन्य के खिलाफ केस दर्ज किया था। बृहस्पतिवार को इस मामले को लेकर ब्राह्मण समुदाय के लोगों ने पवन शर्मा पहलवान की अगुवाई में पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर नारेबाजी कर पीडि़त परिवार को इंसाफ दिलाने व आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की। पवन शर्मा पहलवान ने कहा कि विधायक के इशारे पर पुलिस ने एकतरफा कार्रवाई की, जिसके चलते मानसिक दबाव के कारण सतपाल को अपनी जान देनी पड़ी। मृतक इस संबंध में अपनी बेगुनाही की गुहार लगाते हुए नियमित तौर पर पुलिस से सम्पर्क में था। पुलिस अधीक्षक की गैर मौजूदगी में उप पुलिस अधीक्षक गुरमेल सिंह ने प्रदर्शन कर रहे ब्राह्मण समुदाय के लोगों को आश्वासन दिया कि पुलिस इस मामले की तस्दीक करने में जुटी हुई है।

आरोपियों को हर हाल में गिरफ्तार किया जाएगा। पवन शर्मा पहलवान व लोगों ने पीडि़त परिवार के खिलाफ झूठा मुकदमा खारिज करने, दोषी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर पुलिस ने इस मामले में सकारात्मक कार्रवाई नहीं की तो वे दोबारा से आंदोलन करने के लिए मजबूर होंगे। इस मौके पर राम राज शर्मा, रामकुमार मौदगिल, राम कुमार शर्मा, अशोक निवारसी, राजू शर्मा बन, अजय शर्मा पीपली, विंकल शर्मा , दिलेर शर्मा , गोपाल गौड़, हरीश भारद्वाज, हिमांशु गौतम ,संदीप कौशिक ,वीरभान शर्मा, मुनीष शर्मा, अशोक शर्मा बारवा सहित सैकड़ों ब्राह्मण समुदाय के लोग उपस्थित रहे।इस बारे में ज्योतिसर चौकी प्रभारी विनोद कुमार से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि पुलिस ने मृतक सतपाल के बेटे दीपक के बयान के आधार पर बुधवार को ही आरोपी बलदेव सिंह व अन्य के खिलाफ केस दर्ज कर लिया था। उन्होंने बताया कि मृतक की विसरा रिपोर्ट जांच के लिए मधुबन प्रयोगशाला भेजी गई है। रिपोर्ट आने पर आरोपियों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि पुलिस हर पहलु की तस्दीक कर रही है। पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र पाल सिंह से जब इस मामले में ब्राह्मण समुदाय द्वारा प्रदर्शन करने व पुलिस को मिलने से संबंधित पक्ष जाना गया तो उन्होंने बताया कि पुलिस ने पहले ही आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया था। पुलिस मामले की निष्पक्षता से जांच कर रही है। जांच में जो दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। पुलिस मामले की घटनास्थल से मिले तथ्यों और बयान के आधार पर जांच कर रही है।

जिप के पूर्व चेयरमैन प्रवीण चौधरी ब्राह्मण समुदाय के साथ पहुंचे पुलिस अधीक्षक से मिलने
जिप के पूर्व चेयरमैन प्रवीण चौधरी इस मामले में पीडि़त परिवार के साथ खुलकर सामने आ गए हैं। उन्होंने बृहस्पतिवार को मृतक सतपाल के आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए ब्राह्मण समुदाय का साथ दिया। उन्होंने मांग की कि पीडि़त परिवार को इंसाफ दिया जाए और आरोपियों पर कार्रवाई हो।

ये था मामला
ज्योतिसर चौकी पुलिस के प्रभारी एएसआई विनोद कुमार के अनुसार 9 सितंबर की रात को बारवा निवासी सतपाल व बलदेव के बीच मारपीट हुई थी। मारपीट में बलदेव को चोट आई थी। पुलिस ने बलदेव के बयान के आधार पर सतपाल और उसके बेटे दीपक के खिलाफ केस दर्ज किया था। बलदेव ने आरोप लगाया था कि सतपाल और दीपक ने उसके ऊपर हमला कर घायल किया है। वहीं बुधवार को अपने व अपने बेटे दीपक के खिलाफ झूठा केस दर्ज करने से मानसिक दबाव में सतपाल ने अपने बाड़े में खड़े पेड़ से लटक कर आत्महत्या कर ली थी। मृतक सतपाल के बेटे दीपक ने पुलिस को बयान दिया था कि उसका पिता झूठा केस दर्ज होने के बाद से मानसिक तनाव में आ गया था। इसी परेशानी के कारण ही उसके पिता ने आत्महत्या की है और इसके लिए बलदेव व अन्य लोग जिम्मेवार हैं।

LEAVE A REPLY