एक आदेश देता था दूसरा बदमाशों को उलटा लटकाता था, यादव और चौहान की जोड़ी को याद करने लगा फरीदाबाद

Know Why Crime On Rise In Faridabad

फरीदाबाद: फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर डाक्टर हनीफ कुरेशी बहुत अच्छे पुलिस अधिकारी हैं और जबसे उन्होंने फरीदाबाद में कदम रखा है तबसे हर बड़ी बारदात के बाद आरोपी फ़टाफ़ट दबोचे गए हैं लेकिन फिर भी सोशल मीडिया के लोग न न पूर्व पुलिस कमिश्नर सुभाष यादव को न जानें क्यू याद कर रहे हैं। हाल में फरीदाबाद में कई बड़ी बारदातें हुईं हैं जिस कारण शहर के लोग खौफ में हैं। पुलिस, डाक्टर, पत्रकार सब पिट रहे हैं जिसे देख लगता है कि फरीदाबाद के गुंडों के खाकी की दहशत ख़त्म हो चुकी है। डाक्टर हनीफ कुरेशी अच्छे पुलिस अधिकारी हैं इसमें कोई शक नहीं लेकिन बदमाशों में खाकी का खौफ नहीं है इसलिए उन्हें सोशल मीडिया पर लोग अच्छा पुलिस अधिकारी नहीं मान रहे हैं। एक अधिकारी वो होता है जो अपराध होने ही न दे और एक अधिकारी वो होता है जो अपराध होने के बाद अपराधियों को पकड़ ले। जब अपराध हो ही गया तो? शायद लोग चाहते हैं अपराध हो ही नहीं क्यू कि किसी की जान चली जाए और किसी का हाँथ पैर तोड़ दिया जाए उसके बाद आरोपी पकड़ लिए जाएँ तो जान तो चली गई, हाँथ पैर तो टूट गए अब आरोपी पकडे गए तो कोई बड़ी बात नहीं। कल से अपराध की कई ख़बरों पर लोग फरीदाबाद के पूर्व पुलिस कमिश्नर सुभाष यादव और फरीदाबाद क्राइम ब्रांच के उस समय के इन्स्पेक्टर नरेंद्र चौहान के बारे में कमेंट्स कर रहे हैं और लोगों का कहना है कि ये जोड़ी फरीदाबाद में अब तक की पुलिस के इतिहास की अच्छी जोड़ी थी। सुभाष यादव फरीदाबाद के गैंगेस्टरों, बदमाशों को पकड़ने का आदेश जारी करते थे और नरेंद्र चौहान उन्हें पकड़कर उलटा लटकाकर उन्हें सबक सिखाते थे और कई बड़े बदमाश तो इस जोड़ी का नाम सुनते ही पैंट गीली कर देते थे। शायद यही कारण है फरीदाबाद के ये दोनों पुलिस अधिकारी एक बार फिर याद किये जा रहे हैं।

loading...

Leave a Reply

*