राणा आहुजा केस व जगदीश हत्याकांड का खुलासा: INSP नवीन पराशर को गृह मंत्रालय करेगा सम्मानित

0
223

फरीदाबाद: गुरुग्राम में तैनात इंस्पेक्टर नवीन पाराशर को केंद्रीय गृह मंत्रालय सम्मानित करने जा रहा है। इंस्पेक्टर पाराशर को ये सम्मान एवं मैडल फरीदाबाद में खास मामला सुलझाने के लिए दिया जा रहा है। क्राइम ब्रांच बदरपुर बॉर्डर द्वारा 3 साल पुराने निरीक्षक नवीन कुमार द्वारा 3 साल पुराने राणा प्रताप सिंह आहुजा केश व खेङी गाँव जगदीश हत्या कांड का खुलासा किया था।

गिरफतार किये गये आरोपियों का ब्यौराः-
1. अजीत सिह पुत्र शिव चरण निवासी गांव खेडी थाना भूपानी फरीदाबाद।
2. विरेन्द्र पुत्र ताराचंद निवासी गांव महमदपुर थाना छायसा बल्लवगढ।
3. सुरेन्द्र पुत्र ताराचंद निवासी गांव महमदपुर थाना छायसा बल्लवगढ।

तीन साल पूराने राणा आहुजा मर्डर केस का हुआ था खुलासा।

जगदीश मर्डर केस के मुख्य आरोपी अजीत से दौराने पुलिस रिमांड खुलासा हुआ कि अपने महमदपुर गाँव के 2 सगे भाईयो आरोपी सुरेंदर व आरोपी विरेंद्र के साथ मिलकर राणा आहुजा की हत्या करने की नियत से दिनांक 18ध्08ध्14 को योजना अनुसार उसको जमीन दिखाने के बहाने तीनो ने एन.आई.टी स्थित उसके आफिस के पास से विरेन्द्र की वेगनार कार मे बिठा लिया। व एस.आर.एस सै0 12 के पास अजीत की डसटर मे बिठाकर नहर पार बी.पी.टी.पी मे सुनसान जगह पर ले जाकर रस्सी से गला घोटकर मार दिया तथा उसको डसटर कार की डिग्गी मे डालकर अन्धेरा होने का इंतजार करते रहे बाद मे तीनो डेडबाडी को खुर्द बुरूद करने के लिए पनेहड़ा गाव बल्लभगढ अड्डे पर इकट्ठे हुए तथा योजना अनुसार मोहना पुल पर ले जाकर 20-20 किलो के बाट डेडबाडी से रस्सी की सहायता से बांधकर जमुना नदी मे डाल दिया।

आरोपी अजित ने बतलाया की उसका राणा के साथ 2 करोड़ 33 लाख का लेन देन था जिस कारण अजित ने राणा ने वीरेंदर व सुरेंदर दोनों सगे भाइयो को पैसो का लालच देकर अपने साथ शामिल किया तथा राणा को मारने की योजना बनाई तथा योजना अनुसार बल्लभगढ़ मार्केट से 20-20 किलो के बाट व रस्सी पहले ही खरीदकर अजीत व उसके साथियों ने अजीत की डसटर गाड़ी की डिग्गी में रखे हुए थे।
राणा आहुजा के मर्डर के तीनो आरोपीयो को मुकदमा नं0 190/दिनांक 18.08.14 थाना एन.आई.टी धारा 365,302,201 आई.पी.सी के तहत गिरफ्तार कर लिया है जिनको कल अदालत मे पेश करके हत्या के बारे गहन पूछताछ व हत्या मे प्रयोग की गई गाड़ियो और राणा के मोबाइल फोन बरामद किए जायेगे।

प्रभारी क्राईम ब्रांच बाॅर्डर ने बताया कि आरोपीयों को पहले भी कई क्राईम ब्रांच द्वारा अन्य अपराधो की तफतीश में शामिल किया जा चुका है अजीत का लाई टेस्ट भी इंस्पेक्टर नरेन्द्र चैहान व द्वारा करवाया गया था लेकिन आरोपी काफी शातिर दिमाग का है।

आरोपियों की जगदीश मर्डर केश में मुकदमा नं0 95 थाना भूपानी/दिनांक 20.03.17 धारा 302, आई.पी.सी व 25/54/59 आरम एक्ट में 20.03.17 को गिरफतार कर 6 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया था।
आप को बताते चले कि अजीत व जगदीश बचपन के दोस्त थें और दोनो प्राॅपर्टी व शेयर मार्केट में रूपये लगाते थें जो अजीत ने लेन-देन के चक्कर में ही जगदीश की प्लान के अनुसार दिनांक 20.03.17 को मोती महल सै0 16 मार्किट के पास बुलाकर उसके साथ उसके गाडी में बेैठ लिया तथा उसको कहा कि बाईपास पर कोई पैसे देने के लिए आयेगा।

उसके बाद उसको सै0 29 बाईपास रोड पर ले जाकर बाथरूम करने के बहाने से गोली मारकर गाडी में ही मर्डर कर दिया तथा उसको अगली दोनो सिटो के बीच डाल लिया जब थोडी दुर जाकर गाडी के गियर नही लगने के कारण गाडी हिट हो गई तो अजीत जगदीश की डैड बाडी सहित कार को बाईपास पर छोडकर वापिस बाईक उठाने आटो से मोती महल सै0 16 चला गया जो अजीत का यह पूरा कारनामा सी.सी.टी.वी फूटेज में कैद हो गया था।

जगदीश ने आरोपी अजीत से किसी और व्यक्ति के पैसे दिला रखे थें व ओैर भी कई मामलों में जगदीश अजीत का बिचोलिया था व पैसो के लेन देन पर आपस में अनबन थी।,,,,,,,,,,,,,,,,,गिरफतार किये आरोपी से मोटरसाइकिल व मौके से खाली खोल वारदात मे प्रयोग हथियार बरामद किया गया था।

LEAVE A REPLY