हिसार हवाई अड्डे को अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप में विकसित करेगी सरकार

0
215

चण्डीगढ़, 13 मार्च- हरियाणा के संसदीय कार्य मंत्री प्रो. राम बिलास शर्मा ने आज कहा कि राज्य सरकार ने हिसार हवाई अड्डï को अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप में विकसित करने के लिए तीन चरणों की एक योजना बनाई है जिसके तहत प्रथम चरण में रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम के तहत घरेलू हवाई अड्डा, द्वितीय चरण में छोटे स्तर पर एमआरओ, फिक्ड बेस ऑप्रेशंस एवं प्रतिरक्षा विनिर्माण एवं प्रतिरक्षा एमआरओ और तृतीय चरण में एरोस्पेस विनिर्माण, विमानन प्रशिक्षण केन्द्र और विमानन विश्वविद्याल, अन्तर्राष्टï्रीय हवाई अड्डïा तथा एरोट्रोपोलिस-वाणिज्यिक एवं आवासीय पर कार्य किया जाएगा।
वे आज यहां हरियाणा विधानसभा सत्र के दौरान हिसार हवाई अड्डïेे को अन्तर्राष्टï्रीय हवाई अड्डïे के रूप में विकसित करने के लिए किए जा रहे कार्यों के सम्बन्ध में पूछे गए एक प्रश्न का जवाब दे रहे थे।
उन्होंने कहा कि हिसार में अन्तर्राष्टï्रीय हवाई अड्डïे समेत एक एकीकृत विमानन हब के विकास के सम्बन्ध में व्यवहार्यता अध्ययन करवाने के लिए मार्च, 2016 में एक अन्तर्राष्ट्रीय परामर्शदाता, मैसर्ज फ्रॉस्ट एंड सुलीवान को कार्य दिया गया है। इसके अतिरिक्त, 17 फरवरी, 2017 को एक अभिरुचि की अभिव्यक्ति जारी की गई और इच्छुक पार्टियों से पैमाने का फीडबैक लेने के लिए एक बैठक की गई।

उन्होंने कहा कि वर्तमान हवाई पट्टïी के निकट 4200 एकड़ भूमि केे टुकड़े की पहचान की गई और 30 जून, 2017 को मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में सभी सम्बन्धित विभाग भूमि हस्तांतरित करने पर सहम हुए। इसके अतिरिक्त, 2 मई, 2017 को केन्द्रीय नागरिक विमानन मंत्रालय की स्टीयरिंग कमेटी के साथ एक बैठक में साईट क्लीयरैंस के प्रस्ताव पर चर्चा की गई और मौजूदा हवाई पट्टी का बाधा से अध्ययन भारतीय विमानपतन प्राधिकरण के माध्यम से करवाया गया है। मंत्री ने कहा कि केन्द्रीय नागरिक विमानन मंत्रालय, हरियाणा सरकार और भारतीय हवाई अड्डïा प्राधिकरण (कार्यान्वयन एजेंसी) के बीच एक समझौता ज्ञापन किया गया जिसके तहत उड़ान स्कीम के लिए मौजूदा 4000 फुट हवाई पट्टी को सुदृढ़ करने का निर्णय लिया गया।

मंत्री ने कहा कि इसके अतिरिक्त, यात्री टर्मिनल बिल्डिंग को लगभग 50 पैक्स के लिए फिर से तैयार करने, एलसीएन 20 की मौजूदा 1220 गुणा 45 मीटर हवाई पट्टïी का पुनर्निर्माण करने, मौजूदा टैक्सी ट्रैक का विस्तार और नये टैक्सी ट्रैक का निर्माण करने, एटीआर पार्किंग के लिए नया 380 गुणा 90 मीटर एप्रन बनाने, चार दीवारी की मरम्मत और बीसीएएस द्वारा सुरक्षा लेखा परीक्षण करवाने, एटीसी सेवा टॉवर फ्रिक्वेंसी 122.5 एमएचजेड के लिए एटीसी भवन की बढ़ौतरी करने, अग्निशमन उपकरण का उन्नयन करने, बीसीएएस द्वारा विमानन सम्बन्धित कार्यों के लिए राज्य पुलिस को प्रशिक्षण देने के कार्यों को निष्पादित करने की भी योजना है।
उन्होंने कहा कि नई दिल्ली में 22 दिसम्बर, 2017 को मुख्यमंत्री और केन्द्रीय सडक़ परिवहन और राजमार्ग मंत्री के बीच हुई बैठक में निर्णय लिया गया कि नई दिल्ली और हिसार के बीच मौजूदा चार लेन राष्ट्रीय राजमार्ग को छ: लेन नियंत्रित पहुंच एक्सप्रेसवे में परिवर्तित करने के बारे में केन्द्र सरकार जांच करेगी। इसके अतिरिक्त, 29 दिसम्बर, 2017 को मुख्यमंत्री और केन्द्रीय रेलवे मंत्री के बीच हुई बैठक में निर्णय लिया गया कि नई दिल्ली और हिसार के बीच सीधे रेल कनैक्शन के लिए काम तेज किया जाएगा और उसे सुपर फास्ट ट्रेनों को समायोजित करने के लिए उचित रूप से मजबूत किया जाएगा।

LEAVE A REPLY