फार्म-6 में बताई गई फीस से ज्यादा फीस अब नहीं ले पाएंगे हरियाणा के निजी स्कूल वाले

0
312

चण्डीगढ़, 16 अप्रैल – हरियाणा सेकेण्डरी शिक्षा विभाग ने हरियाणा स्कूल शिक्षा नियम, 2003, संशोधित 2014 के नियम 158-ए के अन्तर्गत निजी स्कूलों के विरूद्घ प्राप्त हो रही शिकायतों हेतु दिशानिर्देश जारी किए हैं।

इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि नियम 158-ए के तहत निर्धारित तिथि से पहले यदि कोई स्कूल सभी दस्तावेजों सहित फार्म-6 जमा नहीं करवाता है तो उसे फीस बढ़ोतरी करने की अनुमति नहीं होगी। इसके अलावा, फार्म-6 में बताई गई फीस से स्कूल अधिक फीस नहीं ले सकता। मण्डलायुक्त किसी भी स्तर पर स्कूल की फीस से सम्बन्धित किसी जांच की लम्बित अवधि के दौरान यह सुनिश्चित करेगा कि छात्रों की सामान्य प्रगति में किसी प्रकार की दिक्कत न आए।

उन्होंने बताया कि फीस और फण्ड रैगुलेटरी समिति स्कूल के खातों की जांच करेगी कि स्कूल द्वारा कोई कोपिटेशन फीस या एडवांस शुल्क किसी छात्र से लिए जा रहे हैं या नहीं। फीस और फण्ड रैगुलेटरी समितियों के चेयरमैन सेवानिवृत लेखा अधिकारी या चार्टड अकाउंटेंट को कोपिटेशन फीस या एडवांस शुल्क की जांच के लिए मनोनीत कर सकते हैं। इसके अलावा, फीस और फण्ड रैगुलेटरी समितियां वर्तमान शैक्षणिक सत्र के लिए किसी भी स्कूल के विरूद्घ शिकायत का भी निपटान करेंगी।

LEAVE A REPLY