जाटों की 18 मांगों पर बिना शर्त बातचीत को तैयार है सरकार, खट्टर

चण्डीगढ़, 28 फरवरी- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा है कि राज्य में विभिन्न स्थानों में धरनों पर बैठे जाट आरक्षण आंदोलनकारियों की ओर से मिली 18 मांगों पर सरकार सकारात्मक, सार्थक एवं सहानुभूतिपूर्वक बिना शर्त बातचीत को तैयार है। यह बातचीत  कानून के दायरे व न्यायालयों के निर्देश के अनुसार तैयार है। किसी भी प्रकार की शर्त आन्दोलनकारियों की तरफ से भी नहीं होनी चाहिए। सरकार की ओर से बातचीत के लिए कभी मना नहीं किया गया है।

कानून एवं व्यवस्था पर पूछे  गए प्रश्न के उत्तर में मुख्यमंत्री ने कहा कि  गत वर्ष की भांति स्थिति न बिगड़े, इसके लिए हर आवश्यक एहतियातिक कदम उठाए जा रहे है।

  मुख्यमंत्री आज हरियाणा विधानसभा के चल रहे बजट सत्र के दूसरे दिन सदन की कार्यवाही के बाद विधानसभा परिसर में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

एक प्रश्न के उत्तर में मुख्यमंत्री ने कहा कि मीडिया लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है, उसे निर्भीक रिपोटिंग करनी चाहिए, उसका भी कत्र्तव्य बनता है।

जाट आंदोलन पर विपक्ष की ओर से दिए गए कामरोको प्रस्ताव पर पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी दलों की सर्वसम्मति से सहमति हुई है और न्यायालय में विचाराधीन मुद्दों को छोडक़र विधानसभा अध्यक्ष ने इस मुद्दें पर कल सदन में चर्चा के लिए  समय निर्धारित किया है।