बहुत ही खास होगा हरियाणा के हिसार का हवाई अड्डा

Haryana Finance Minister, Capt. Abhimanyu in a meeting with British High Commissioner to India Sir Dominic Asquith KCMG in Chandigarh

चण्डीगढ, 11 अगस्त- हरियाणा के वित मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि प्रदेश सरकार ने भारत सरकार को हिसार हवाई अडडे को क्षेत्रीय संपर्क योजना (आरसीएस) के तहत घोषित करने के लिए आवेदन किया है और आशा है कि आरसीएस हवाई अडडों की अगली सूची में इसका नाम आ जाएगा।
कैप्टन अभिमन्यु ने यह खुलासा आज यहां भारत में ब्रिट्रिश हाईकमिश्नर सर डोमिनिक ऐसकवीथ केसीएमजी के साथ हुई शिष्टाचार भेंट के दौरान किया। उन्होंने कहा कि जब एक बार हिसार हवाई अडडा आरसीएस में शामिल हो गया तो हवाई टिकट 2500 रुपये से नीचे आ जाएगी।
सर डोमिनिक एसक्विथ ने हरियाणा में कृषि, कृषि खाद्य प्रसंस्करण, कोल्ड चेन, नागरिक उडडयन और ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन के क्षेत्रों में अपनी गहरी रूचि दिखाई। उन्होंने कहा कि यू.के. की विभिन्न बडी कंपनियां हरियाणा में बड़ी परियोजनाओं के तहत निवेश करना चाहती है।
कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि हरियाणा में स्थानीय लाभ और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के नजदीक होने से बहुत ज्यादा क्षमता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार हिसार में एक अन्य हवाई अडडा बनाने जा रही हैं जो नई दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राटीय हवाई अडडे से 150 किलोमीटर की दूरी पर है। उन्होंने कहा कि ऐसी संभावना है कि वर्ष 2022 तक आईजीआई हवाई अडडा की पूर्ण क्षमता हो जाएगी और फिर हिसार हवाई अडडा उस समय बडे बदलाव का काम करने का काम करेगा।

उन्होंने कहा कि हिसार हवाई अडडा जोकि 4200 एकड़ सरकारी भूमि पर विकसित किया जा रहा है जो राज्य सरकार का एक प्रतिष्ठित परियोजना हैं तथा इसके लिए 100 करोड़ रुपये की राशि का प्रावधान किया गया है। भेंट के दौरान रक्षा हवाई जहाजों के लिए मरम्मत और संचालन सुविधा के विकास पर भी चर्चा की गई। इसके अलावा, विभिन्न निजी कंपनियां जिनमें प्रैट एंड व्हीटनी ने भी इस क्षेत्र में हवाई जहाजों के लिए सिविल एमआरओ और सेवा सुविधा हेतु अपनी परियोजनाएं स्थापित करने की इच्छा व्यक्त की है।
हरियाणा राज्य की परिपक्व अर्थ व्यवस्था की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि कृषि राज्य की रीढ़ की हडडी है और कृषि खाद्य प्रसंस्करण, फल और सब्जियों के विपणन पर भी राज्य सरकार महत्व दे रही है। उन्होंने कहा कि सरकार राष्टीय राजधानी क्षेत्र के 40 मीलियन जनसंख्या की रोजमर्रा की चीजों जैसे कि दूध, सब्जियां और फल की जरूरत पर पूरा करने पर फोकस कर रही हैं। उन्होंने कहा कि जिला सोनीपत के बरही और राई की औद्योगिक संपदाओं में स्थापित की जा रही खाद्य प्रसंस्करण इकाईयों में क्षमता हैं क्योंकि यह दिल्ली के नजदीक भी है और इनका कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेस-वे के माध्यम से सीधा संपर्क भी होता हैं। उन्होंने कहा कि किसानों को उनके उत्पाद का एक उचित दाम मिले इसके लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है।
कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि गुरुग्राम में 1000 एकड़ भूमि पर ग्लोबल सिटी स्थापित की जा रही है और हम ग्लोबल सिटी के मास्टर प्लान को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में हैं तथा इसके लिए भारत सरकार के साथ मिलकर एक विषेष उद्देश्यीय वाहन भी तैयार किया गया है। ग्लोबल सिटी नई दिल्ली के आईजीआई हवाई अडडे और दिल्ली तथा गुरूग्राम के अन्य सिटी सेंटरों के साथ अच्छी प्रकार से कनैक्ट होगी जिसमें आईटी और अन्य सूचना प्रौद्योगिकी सेवाएं, स्वास्थ्य देखभाल परियोजनाएं तथा अन्य वित्तीय और मनोरंजन सेवाएं होगी।
उन्होंने कहा कि हरियाणा और यूके ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन के क्षेत्र में मिलकर काम कर सकता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन के लिए नई परियोजनाएं शुरू की हैं जिसके तहत सभी 80 नगर परिषदों को 15 कलस्टरों में बांटा गया है। उन्होंने कहा कि इस परियोजना के तहत घरों से कचरा इकट्ठा किया जाता है और इस प्रसंस्करण करके इससे ऊर्जा उत्पन्न की जाती है और इस संबंध में जल्द ही निविदाएं आमंत्रित की जाएगी।
बैठक में हरियाणा राज्य औद्योगिक एवं अवसंचरना विकास निगम के प्रबंध निदेशक श्री राजा शेखर वुंडरू, चण्डीगढ़ में ब्रिटिश उप-हाई कमिश्नर श्री एडेऊयू आयर, ब्रिटिश हाई कमिश्नर आलम बैंस और राज्य सरकार के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

loading...

Leave a Reply

*