जाट नेता यशपाल मलिक की रैली में नहीं जाएंगे हुड्डा, बोले समाज को बाँटने वाले पसंद नहीं

Haryana Ex CM Bhupinder Hooda Press Conference Report

अनूप कुमार सैनी, हरियाणा अब तक: रोहतक : जाट नेता यशपाल मलिक की 26 नवंबर की रोहतक में होने वाली रैली में जाने का कोई कार्यक्रम नहीं है। वे ऐसे किसी कार्यक्रम में नहीं जाते, जहां समाज के बीच बंटवारा या टकराव हो। घ्यान रहे कि अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने भूपेंद्र सिंह हुड्डा को रैली का न्यौता दिया हुआ है। पूर्व मुख्यमंत्री ने भाजपा सरकार की कार्यप्रणाली पर कड़े प्रहार करते हुए आरोप लगाया कि भाजपा सरकार ने प्रदेश को भ्रष्टाचार में डूबो दिया है।इससे बड़ी शर्म की क्या बात होगी, भ्रष्टाचार मुक्त करने का दावा करने वाली भाजपा सरकार में गरीबों तक पहुंचने वाली दाल को भी नहीं बख्शा और उसमें बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार किया है। उन्होंने कहा कि चाहे धान खरीद का मामला हो या फिर खनन का, सरकार किसी भी मामले में जांच कराने को तैयार नहीं है, जिससे साफ है कि प्रदेश सरकार ने 3 साल के दौरान भ्रष्टाचार करने में रिकार्ड तोडा है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि विधानसभा क्षेत्रों में रैली के दौरान मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जितनी भी घोषणाएं की थी, उनमें से कोई घोषणा पूरी नहीं हुई है, सिर्फ कर्मचारियों का तबादला कर वह घोषणा को विकास मान रहे है। उन्होंने यहां तक कहा कि 3 साल के शासनकाल के दौरान मुख्यमंत्री खट्टर जबाव दें कि उन्होंने धरातल पर क्या काम किया है। अधिकारियों के तबादले करने व भाषणों से शासन नहीं चलता। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष को लेकर उन्होंने कहा कि प्रदेश कांग्रेस के नेताओं ने पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को प्रस्ताव पास करके भेज रखा है और हाईकमान सही समय पर इसका फैसला लेंगे।

बाद में उन्होंने आवास पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व सीएम ने कहा कि जाट नेता यशपाल मलिक की 26 नवंबर की रैली में जाने का कोई कार्यक्रम नहीं है, वे ऐसे किसी कार्यक्रम में नहीं जाते, जहां समाज के बीच बंटवारा या टकराव हो। कांग्रेस शासनकाल के दौरान शुरू किए गए प्रोजेक्टों को ही यह सरकार पूरा कर दे तो वह अपने आप में एक उपलब्धि होगी लेकिन सरकार काम करने की बजाए झूठ बोल लोगों को गुमराह कर रही है। हुड्डा ने कहा कि 3 साल के शासनकाल के दौरान भ्रष्टाचार के कई मामले सामने आए, जिनमें ग्वाल पहाड़ी मामला, खनन मामला, धान खरीद, स्वच्छता के नाम पर नगर निगम व नगर पालिकाओं में भ्रष्टाचार का मामला और अब गरीबों की दाल तक में भ्रष्टाचार किया गया है। उन्होंने कहा कि शुरूआत से ही वे इन मामलों की सीबीआई से जांच कराने की मांग कर रहे हैं लेकिन सरकार इसे अनदेखा कर रही है क्योंकि सरकार भ्रष्टाचार में शामिल है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि रोल बैक करना सरकार की आदत में शुमार है। पराली खरीदने के केन्द्र सरकार के फैसले को लेकर उन्होंने कहा कि अगर किसानों को फायदा हुआ तो वह खुले दिल से इसकी सराहना करेंगे। साथ ही उन्होंने पद्मावती फिल्म को लेकर भी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि अगर इससे किसी समाज की भावनाएं आहत होती है तो इस फिल्म पर रोक लगनी चाहिए। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष को लेकर पूछे प्रश्र के जवाब में उन्होंने कहा कि पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को प्रदेश कांग्रेस के नेताओं ने प्रस्ताव पास करके भेज रखा है और हाईकमान सही समय पर इसका फैसला लेगा।

loading...

Leave a Reply

*