फिर जाट नेता यशपाल मलिक के सामने नतमस्तक हुए खट्टर

0
270

नई दिल्ली: हरियाणा की खट्टर सरकार बार बार अपनी कमजोरी पूरे देश में जग जाहिर कर रही है और यही कारण है कि देश के जितने भी राज्यों में भाजपा की सरकार है उनमे सबसे कमजोर खट्टर सरकार है। ये बातें भाजपा नेताओं को बुरी लगेंगी क्यू कि हर कोई खुद को तीसमार खां समझता है। वर्तमान समय में किसी को आइना दिखाओ तो वो बुरा मान जाता है। ताजा जानकारी के मुताबिक़ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की 15 फरवरी को जींद में होने वाली बाइक रैली को संपन्न करवाने के लिए हरियाणा सरकार एक बार फिर जाटों के आगे नतमस्तक हो गई है ,खट्टर सरकार ने झुककर यशपाल मलिक को दिल्ली हरियाणा भवन में समझौते के लिए बुलाया है।

कुछ देर पहले जाट आरक्षण संघर्ष समिति के नेता यशपाल मलिक का अगुवाई में हरियाणा भवन पहुंचे हैं । यहाँ उनकी मुख्यमंत्री मनोहर लाल से बातचीत भी शुरू हो चुकी है। हरियाणा अब तक को जो जानकारी अपने सूत्रों द्वारा मिल रही है उसके मुताबिक़ इस बैठक में मुख्यमंत्री मनोहर लाल, हरियाणा प्रभारी अनिल जैन, राज्यसभा सदस्य भूपेंद्र यादव कैबिनेट मंत्री कृष्ण लाल पंवार मौजूद हैं। अमित शाह की रैली की बात करें तो प्रशासन पूरी तरह से सतर्क है लेकिन जाट समुदाय के नेता कई जिलों में जिस तरह की धमकियां दे रहें हैं उसे देख सीएम हिले हुए हैं और इसीलिये आज उन्होंने यशपाल मलिक को बातचीत के लिए बुलाया है। इस बैठक के नतीजे जल्द आ सकते हैं।

LEAVE A REPLY