खट्टर ने कई सरपंचों को दिया इनाम, फरीदाबाद की एक सरपंच को भी मिले 5 लाख रूपये

0
276

चंडीगढ़, 10 जुलाई- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के हर नागरिक को स्वाभीमान व आत्मसम्मान से जीवन जीने के अवसर प्रदान करने के सपने को तब तक हम साकार नहीं कर सकते जब तक हमारे गांव खुशहाल नहीं होंगे और वहां रहने की शहरों जैसी सुविधाएं उपलब्ध नहीं होंगी। गांवों के विकास की सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में पंचायती राज संस्थानों के जन प्रतिनिधि बड़ी भूमिका निभा सकते हैं और इस कड़ी में राष्ट्रीय विकास परिषद की तर्ज पर हरियाणा में भी पंचायती राज संस्थाओं को ओर अधिक सशक्त करने के लिए राज्य परिषद का गठन किया जाएगा।
मुख्यमंत्री आज यहां सेक्टर-3 स्थित उनके सरकारी आवास में विकास एवं पंचायत विभाग की 7 स्टार इंदरधनुष योजना के तहत 4 स्टार रेटिंग हासिल करने वाली राज्य की 9 ग्राम पंचायतों को सम्मानित करने उपरांत उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। समारोह में विकास एवं पंचायत मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड़ और विकास एवं पंचायत विभाग के प्रधान सचिव श्री सुधीर राजपाल भी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री ने 4 स्टार प्राप्त हासिल करने वाली पंचायातें को बधाई दी। उन्होंने कहा कि पंचायती राज संस्थान के बिना सरकार की कोई भी योजनाएं सफल नहीं हो सकती । राज्य परिषद के अध्यक्ष मुख्यमंत्री स्वयं होंगे जबकि विकास एवं पंचायत मंत्री उपाध्यक्ष और पंचायत , पंचायत समितियां, जिला परिषद, नगर निगम के प्रतिनिधि इस राज्य परिषद के सदस्य होंगे।
मुख्यमंत्री ने 7 स्टार इंदरधनुष योजना के तहत बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, स्वच्छता, शिक्षा, पर्यावरण संरक्षण, शांति और सद्भाव और सामाजिक भागीदारिता में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए जिला अंबाला की अकबरपुर, हड़बौन, जिला फतेहाबाद की बनावली सोटर और मल्हड़, जिला गुरुग्राम की वजीरपुर, जिला हिसार की बहबलपुर, जिला पलवल की रामगढ़ और कारना तथा जिला फरीदाबाद की मादलपुर ग्राम पंचायत ने 4 स्टार धारण करने की अनुमति प्रदान की । अब ये पंचायतें अपने स्टार ग्राम गौरव पट्ट एवं ग्राम सचिवालय पर अंकित कर सकेंगी। इसके अलावा विभाग की वेबसाइट पर भी इनकी जानकारी उपलब्ध होगी।
इस योजना के तहत हर स्टार पर 1 लाख रुपये की राशि ग्राम पंचायत को मिलेगी और स्वच्छता तथा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर सराहनीय कार्य करने पर 50-50 हजार रुपये अतिरिक्त बोनस के रूपय में प्रदान किये गए। पुरस्कार प्राप्त करने वाली पंचायतों में अंबाला जिले की नारायणगढ़ खंड की अकबरपुर और हिसार जिले की बरवाला खंड की बहबलपुर ग्राम पंचायत को 4-4 लाख रुपये की राशि, अंबाला जिले की नारायणगढ़ खंड की हड़बौन, फतेहाबाद जिले की नागपुर खंड की बनावली सोटर और मल्हड़, जिला गुरुग्राम की वजीरपुर, पलवल जिले की हसनपुर खंड की रामगढ़ और कारना को 4.5-4.5 लाख रुपये तथा जिला फरीदाबाद की मादलपुर ग्राम पंचायत को 5 लाख रुपये की राशि के चैक पुरस्कार के तौर पर दिए गए। यह राशि आज ही आरटीजीएस के माध्यम से ग्राम पंचायतों के खातों में पहुंच गई है।
उन्होंने कहा कि हरियाणा ने पंचायती राज संस्थाओं में बदलाव के लिए पढ़ी-लिखी पंचायत के लिए सुप्रीम कोर्ट तक लड़ाई लडऩे वाला हरियाणा देश का पहला राज्य है और अब शिक्षित पंचायतों के बाद हरियाणा ने 7 स्टार इंदरधनुष जैसी एक अनूठी योजना की शुरुआत की है। उन्होंने कहा कि हरियाणा कई ऐसी योजनाएं बना रहा है, जिसका अनुसरण अन्य प्रांत भी कर रहे हैं और उन्हें उम्मीद है कि इस 7 स्टार इंदरधनुष योजना का अनुसरण भी अन्य राज्य करेंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव की जीवन शैली को बेहतर करने के लिए 26 जनवरी 2018 से चलाई गई इस योजना के पहले साल में ही 1120 ग्राम पंचायमों ने स्टार हासिल किये हैं जो इस बात का प्रतीक है कि योजना सफल हो रही है। उन्होंने कहा कि जनभागिदारी को बढ़ाने में पंचायतों ने सराहनीय कार्य किया है। उन्होंने स्टार हासिल करने वाली पंचायतों के जन प्रतिनिधियों से अपील की कि वे अपने पडोस की अन्य पंचायतों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बनें और आज के कार्यक्रम की जानकारी उन्हें दें।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने हाल ही में 5 जून वन महोत्सव के अवसर पर स्कूली बच्चों से एक-एक पौधा रोपित करवाने का एक अभियान चलाया है जिसके तहत सभी शिक्षण संस्थानों के छठी से 12वीं कक्षा तक के विद्यार्थियों द्वारा एक-एक पौधा लगाया जाएगा। पंचायतों को उस योजना को भी सार्थक बनाना होगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने पानी के संरक्षण के लिए भी गांवों में व्यर्थ बहते पानी को रोकने के लिए टूटी लगाओ जल बचाओ अभियान चलाया है, इसमें भी पंचायतें अपना दायित्व समझ कर यह देखें कि गांव में जहां आवश्यकता है वहां टूटियां लगी है या नहीं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि 126 गांवों में महाग्राम योजना के तहत सभी मूलभुत सुविधाएं दी जा रही है। इसी प्रकार शिवधाम नवीनकरण योजना के तहत सभी शमशान घांटों और कब्रिस्तानों में पक्का रास्ता, चारदीवारी, शैड और पानी की व्यवस्था की जा रही है जो आगामी 6 महीनों में पूरी हो जाएगी। इसी प्रकार ठोस व तरल कचरा प्रबंधन के लिए गोबरधन योजना आरंभ की गई है जिसका उद्देश्य कचरे से ऊर्जा पैदा करना है। अब तक फरीदाबाद, गुरुग्राम व सोनीपत जिलों में इसके संयंत्र लगाने का कार्य आरंभ किया जा चुका है। उन्होंने उपस्थित जनप्रतिनिधयों से अनुरोध किया कि वे अपने-अपने गांव की गोबरधन योजना आरंभ करने की संभावना का भी पता लगाएं।

LEAVE A REPLY