पूरी तरह फेल हो गई अमित शाह की रैली, और टपका खट्टर का कद

0
488

चंडीगढ़: हरियाणा सरकार का ग्राफ काफी समय से टपकता जा रहा है और कई सर्वे में सरकार को कमजोर बताया जा रहा था लेकिन सरकार ने अधिकतर ढकोसलों पर ध्यान दिया, कभी गीता जयंती तो कभी सरस्वती जयंती मनाई गई। जिसका असर आज अमित शाह की हुंकार रैली में दिख रहा है। हरियाणा अब तक के पूर्व अनुमान के मुताबिक़ ये रैली फेल हो गई है। पहले भी हमें यही आशंका थी क्यू कि कई जिलों से सूचना मिली थी कि भाजपा कार्यकर्ता अपने विधायकों से नाराज हैं और रैली में नहीं जाएंगे। हरियाणा अब तक को अपने ख़ास सूत्रों से ये भी पता चला है कि कई किराए के लोग अपने नेताओं ने बाइक में पेट्रोल डलवाने के नाम पर 500-500 रूपये ले लिए कुछ तो थोड़ी दूर गए और कुछ चुपचाप अपने घर बैठ गए।

जब रैली स्थल पर भीड़ नहीं पहुँची तो खाली कुर्सियां एक जगह एकत्रित कर उन्हें शामियाने से ढंकने का प्रयास किया जाने लगा। बताया जा रहा है कि मच से 3-4 बार चौधरी बीरेंद्र सिंह और फिर 4-5 बार अमित शाह ने कहा कि ये रैली नहीं है बल्कि कार्यकर्ता सम्मेलन है, इसकी वजह ये है कि एक लाख से ज्यादा दावा करने वाली पार्टी मुश्किल से 20 हज़ार लोग इक्कट्ठा कर पाई। इस कार्यक्रम का नाम “हुंकार रैली” था, कार्यकर्ता सम्मेलन नहीं।अब इसे कार्यकर्ता सम्मलेन बताया जाने लगा। सीएम सिटी करनाल में भाजपा की रैली में जा रहे युवाअों ने खुलासा किया कि नेता उन्हें बाइक की टैंकी तेल से फुल करवाने बढ़िया हैलमेट अौर एक जैकेट मिलेगा का लालच देकर रैली में लेकर आए थे लेकिन ये सब देना तो दूर की बात उन्हें सुबह से कुछ खाने को बी नहीं दिया गया। युवा सुबह 7 बजे से भूखे प्यासे घूम रहे हैं।

LEAVE A REPLY