गोरखपुर अस्पताल में किसी ने जानबूझकर 36 बच्चों को मारा? दिग्विजय के हीरो डॉ कफ़ील अहमद पर उठे सवाल

Gorakhpur tragedy: BRD Medical College's 'suspended' principal terms his resignation pre-decided

नई दिल्ली: गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में आक्सीजन के कारण हुई बच्चों की मौत पर यूपी सरकार ने कड़ा एक्शन लिया है। सरकार ने कॉलेज के प्रिंसिपल आरके मिश्रा को निलंबित कर दिया है। बीआरडी अस्पताल में 36 बच्चों की दर्दनाक मौत पर यूपी सरकार ने सफाई देते हुए कहा कि ऑक्सिजन सप्लाइ की कमी के कारण बच्चों की मौत नहीं हुई है। यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने आज घटना की जानकारी देते हुए बताया कि कुछ घंटों के लिए ऑक्सिजन की सप्लाइ जरूर बाधित हुई थी, लेकिन मौत का कारण गैस सप्लाइ में बाधा नहीं है। उन्होंने साथ ही कहा कि मामले में लापरवाही बरतने के कारण कॉलेज के प्रिंसिपल को निलंबित कर दिया गया है। मंत्री ने कहा कि दोषियों के खिलाफ सरकार कड़ी कार्रवाई करेगी। सोशल मीडिया पर बहस चल रही है कि क्या किसी ने जानबूझकर आक्सीजन की सप्लाई बंद कर बच्चों को जानबूझकर मारा है? Congress के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने अस्पताल के एक डाक्टर की तारीफ़ की है। दिग्विजय सिंह ने एक पोस्ट शेयर करते हुए लिखा है कि मिलिए डॉ कफ़ील अहमद से-अपनी कार में ही डॉक्टर दोस्तों से लाए 12 सिलेंडर, दिग्विजय सिंह के इस ट्वीट पर सवाल खड़े किये जा रहे हैं कि काफिल अहमद मुसलमान हैं इसलिए उन्होंने तारीफ़ की है और इस मुद्दे पर भी उन्होंने जाति धर्म की राजनीति करने से परहेज नहीं किया।

अधिकतर लोग उन्हें गालियां दे रहे हैं उनके इस ट्वीट कर जाकर आप पढ़ सकते हैं। आर के मिश्रा के संस्पेंड किये जाने के बाद की मौत का जिम्मेदार किसे माना जाए यह बड़ा सवाल है? अस्पताल के MD पीडियाट्रिक और 100 बेड के प्रभारी डॉक्टर कफील अहमद खान के ऊपर भी सवाल उठ रहे हैं। उनके भी खिलाफ जांच की बात सामने आ रही है। ऐसे मौकों पर दिग्विजय द्वारा काफिल खान की तारीफ़ की जा रही है। क्या लफड़ा है जांच के बाद पता चलेगा लेकिन मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ जिस दिन अधिक बच्चों की मौत हुई उस दिन भी डॉक्टर कफील खान 3:00 बजे रात तक मेडिकल कॉलेज में ही थे। लोगों ने दिग्विजय सिंह से पूंछा है कि डाक्टर खान के पास कौन सी ऐसी कार थी जिसमे नौ क्विंटल के 12 सिलेंडर आ गए थे। कुछ लोग डाक्टर खान की तारीफ़ भी कर रहे हैं लेकिन अधिकतर लोग दिग्विजय और खान पर सवाल खड़े कर रहे हैं।

loading...

Leave a Reply

*