अब अपनी मर्जी से 15 लाख खर्च कर सकते हैं हरियाणा के विधायक

0
375

चंडीगढ़: हरियाणा में विधायकों को मिलने वाली सालाना पैटी ग्रांट में एक साथ पांच गुना इजाफा कर इसे 3 लाख से बढ़ाकर 15 लाख रुपये कर दिया है। पैटी ग्रांट वह राशि होती है जिसे विधायक अपनी मर्जी से किसी को भी दे सकते हैं। यही नहीं, इस पैसे का कोई हिसाब नहीं लिया जाता। ऑडिट भी नहीं होता है। बुधवार को सीएम मनोहर लाल खट्टर की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट मीटिंग में यह फैसला हुआ। विधायक लंबे समय से पैटी ग्रांट बढ़ाने की मांग कर रहे थे। मुद्दा विधानसभा में भी उठा। बता दें कि इससे पहले पिछले साल खट्टर सरकार मंत्रियों के ऐच्छिक कोटे में बढ़ोतरी कर चुकी है।
स्पीकर और कैबिनेट मंत्रियों के कोटे को 5 करोड़ सालाना से बढ़ाकर 7 करोड़ रुपए किया जा चुका है। डिप्टी स्पीकर और राज्य मंत्रियों की ग्रांट को 4 करोड़ से बढ़ाकर साढ़े 5 करोड़ सालाना किया गया था। सीएम के लिए ऐच्छिक ग्रांट का कोटा 40 करोड़ रुपए तय है, लेकिन अगर सीएम चाहें तो इससे अधिक की घोषणाएं भी कर सकते हैं। बता दें कि विधायकों द्वारा हलकों में विकास योजनाओं तथा सामाजिक एवं धार्मिक कार्यक्रमों में चंदा देने के लिए 2 करोड़ रुपए सालाना ग्रांट तय किए जाने की मांग भी की जाती रही है। इस पर न तो पूर्व की हुड्डा सरकार के समय विधायकों की सुनवाई हुई और न ही मौजूदा खट्टर सरकार ने इसे गंभीरता से लिया।

LEAVE A REPLY