फरीदाबाद का विकास और जनता जाए भाड़ में, टिकट खरीद कर लाते हैं नेता और करते हैं वसूली?

0
199

फरीदाबाद: हरियाणा में अगले वर्ष विधान सभा चुनाव होंगे जिसकी तैयारियां जोरों पर चल रहीं हैं। यहाँ कांग्रेस, इनैलो और सत्ताधारी भाजपा यहाँ की मुख्य पार्टियां हैं। हरियाणा के फरीदाबाद जिले में 6 विधानसभा सीटें हैं जबकि लोकसभा क्षेत्र में कुल 9 विधानसभा सीटें आतीं हैं। दो दशकों से फरीदाबाद का हाल बदहाल होता जा रहा है। ऐसा क्यू हो रहा है। शहर के एक बड़े समाजसेवी का कहना है कि चुनावों में नेता टिकट खरीदकर लाते हैं और जीतने के बाद अपना पैसा वसूल करते हैं। इसलिए फरीदाबाद का विकास नहीं हो पा रहा है। टिकट खरीदने वाले मालदार लोग होते हैं वो किसी भी पार्टी के हों। इनकी बात कुछ हद तक सच इसलिए साबित हो रही है क्यू कि हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर कह चुके हैं कि वो इस बार कांग्रेस टिकट को बिकने नहीं देंगे। उन्हें शायद पता है कि कांग्रेस की टिकटें बिकतीं थीं। अगर कांग्रेस की टिकटें बिकतीं थीं तो टिकट पाने वाले खरीददार थे और अधिकतर कांग्रेस की टिकटें पुराने नेताओं को मिलतीं थीं। ये टिकटें कितने में बिकतीं थीं, तंवर ने इसका खुलासा नहीं किया लेकिन तंवर के बयान को देख लगता है कि कांग्रेस की टिकटें जरूर बिकतीं थीं। बात कर रहे हैं हम फरीदाबाद की जहां भाजपा के पहले एक दशक तक कांग्रेस का राज था।

फरीदाबाद का विकास क्यू नहीं हुआ अब पता चल रहा है क्यू कि जो नेता टिकट खरीदेगा पहले वो अपनी टिकट का दाम वसूल करेगा किसी भी पार्टी का हो। कांग्रेस के पहले हरियाणा में जिस पार्टी का राज था उस पर भी टिकट बेंचने के आरोप लग चुके हैं और उस पार्टी के खिलाफ तो बड़े सबूत भी हैं क्यू कि उसने टिकट के लिए एक नेता से 50 लाख ले लिया और टिकट उसे दी जो 50 लाख से ज्यादा दिया। शहर में कई अन्य चर्चे भी हैं कि भाजपा ने पिछले चुनावों में अपने असली कार्यकर्ताओं को दरकिनार कर मालदारों को टिकट दिया और ऐसे लोग भी टिकट पा गए जिनके घर पर टिकट मिलने वाले दिन तक कांग्रेस का बोर्ड लगा था और टिकट मिलने के पहले वो कभी भाजपा के किसी प्रोग्राम में नहीं दिखे थे। बिना आग लगे धुंआ नहीं उड़ता इसलिए ये बात सच सी लगती है कि पार्टियां टिकटें बेंचती हैं। और अशोक तंवर अपनी जगह पर सही हैं।
मालुम हो कि हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर ने रविवार को कलानौर की अनाज मंडी में कहा था कि उनके रहते ना ही वे किसी को टिकटों को बेचने देंगे और न ही पार्टी कार्यकर्त्ताओं के संघर्ष और मेहनत को बेचने देंगे। उन्होंने कहा कि वह घी की पीपी से जो टिकट बिकने का चलन शुरू हुआ था, उसे पूर्णतय: खत्म करके काबिल, ईमानदार और पार्टी को मजबूत करने वाले नेता और कार्यकर्त्ताओं को टिकट दिलवाएंगे। संलग्न तस्वीर, हरियाणा के सीएम को ट्वीट की जा चुकी है लेकिन इस गंदगी को लेकर कोई कार्यवाही अब तक नहीं हुई। नेता स्वच्छ भारत अभियान नाम का झूंठा दावा कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY