फरीदाबाद कांग्रेस की खुली पोल, अशोक तंवर के दावे झूंठे? बैठक में 60 नेता भी नहीं पहुंचे

0
312

चंडीगढ़/ फरीदाबाद: लोकसभा चुनावों के एलान के बाद सभी पार्टियां युद्ध स्तर पर चुनावों की तैयारी में जुट गईं हैं। हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष डाक्टर अशोक तंवर ने हाल में कहा था कि प्रदेश की 10 लोकसभा सीटों से चुनाव लड़ने के लिए 1200 के आस पास आवेदन आये हैं। अशोक तंवर सच बोल रहे थे या झूंठ ये तो वही जानें लेकिन हरियाणा अब तक अपने सूत्रों की बात करे तो अशोक तंवर पूरी तरह से झूंठ बोल रहे थे। फरीदाबाद लोकसभा क्षेत्र हरियाणा के बड़े क्षेत्रों में गिना जाता है जहाँ की 9 विधानसभा सीटें इस क्षेत्र में आती हैं।

दावा किया गया था कि 70 से ज्यादा लोगों ने यहाँ से कांग्रेस की टिकट के लिए आवेदन किया है। हरियाणा कांग्रेस समन्वय समिति की आज एक खास बैठक थी जिसकी अगुआई हरियाणा कांग्रेस समन्वय समिति के सदस्य एवं पूर्व मंत्री महेेन्द्र प्रताप सिंह ने की। इस बैठक में कई ऐसे कांग्रेसी नेता शामिल हुए जो कहीं से पार्षद हैं, पूर्व पार्षद हैं, किसी गली के जाने माने नेता हैं लेकिन उनकी गली वाले भी उन्हें नेता मानने को तैयार नहीं हैं। कांग्रेस की तरफ से जो प्रेस नोट जारी किया गया है उसमे लिखा गया है कि बैठक में फला-फला नेता मौजूद थे।

जिन नेताओं का नाम लिखा गया है उनमे लगभग 55 नेताओं के नाम हैं और आधे नाम तो ऐसे हैं जो अभी तक कहीं के पार्षद भी नहीं बन सके हैं। ये 70 लोग कौन हैं और इनमे से अधिकतर किस राज्य के हैं जो यहाँ से कांग्रेस की टिकट मांग रहे हैं और ये सब अगर फरीदाबाद के हैं तो इतनी खास बैठक में आये क्यू नहीं। बैठक के बाद कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। इस बैठक में कहा गया है कि कांग्रेस एकजुट है लेकिन इस एकजुटता पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं क्यू कि बैठक में कई जाने माने चेहरे गायब रहे।

यहाँ कांग्रेस से चूक हुई है कम से कम 70 नेताओं का नाम तो प्रेस नोट में लिखवा देना था। लगता कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सही बोल रहे हैं लेकिन कांग्रेस इतनी दूर तक की नहीं सोंच सकी। आगे शायद ये गलती पूरी कर ली जाए और प्रेस नोट में 70 से ज्यादा नाम रहें भले वो बैठक में पहुंचें या न पहुंचें। आजकल तो लेबर चौक पर भी तमाम कार्यकर्त्ता मिल जाते हैं बस उन्हें टोपी पहनाने की देर है। उनसे भी काम चलाया जा सकता है लेकिन उन्हें दिहाड़ी जरूर दें वरना वो बेचारे थाने पहुँच जाते हैं और बड़े बड़े नेताओं की पोल खुल जाती है।

प्रेस नोट में ये नाम लिखे गए हैं। इनमे कई अच्छे नेताओं के नाम हैं लेकिन कई ऐसे नेताओं के नाम हैं जिनके पास कोई न कोई पद तो है लेकिन? गिनें नाम जो कांग्रेस ने मीडिया के पास भेजा है

पूर्व सांसद अवतार सिंह भड़ाना, विधायक करण दलाल, विधायक उदयभान, पूर्व विधायक आनंद कौशिक, लोकसभा फरीदाबाद के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता यशपाल नागर, सुभाष कौशिक, हरेन्द्र पाल राणा, इजराईल, मोहम्मद बिलाल, जगन डागर, सुमित गौड़, तरूण तेवतिया, विकास चौधरी, डा धर्मदेव आर्य, अनीशपाल, अब्दुल गफ्फार कुरैशी, राकेश भड़ाना, सुन्दर माहौर, प्रवेश महेता, राजेन्द्र भमला, सूबेदार सुमन, विजय पाल चंदीला, विनोद कौशिक, भारत भूषण आर्य, योगेश गौड़, इकराम खान, योगेश ढींगड़ा, जितेन्द्र भड़ाना, राजेश भड़ाना, विकास वर्मा, राजेश खटाना, डा सौरभ शर्मा, फिरे पोसवाल, नेत्रपाल अधाना, महीपाल बंधू, सेवाराम वर्मा, राजेन्द्र चपराना, इंद्रावती, सीमा, स्नेह सहगल, पूनम, बेदी जार्ज, भूपेन्द्र नागर, मनोज अग्रवाल, गुलशन बज्गा, बलजीत कौशिक, राजेश आर्य, एस एल शर्मा, रतनपाल , छत्रपाल सौरोत, डा राधा नरूला, विजय पाल सरपंच कोट, विजय प्रताप सिंह आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY