लंका दहन के दिन ही फरीदाबाद में महाभारत, पत्थरबाजी के बाद लाठीचार्ज, कई नेताओ के खिले चेहरे

0
476

फरीदाबाद: एनआईटी फरीदाबाद के दशहरे से पहले की बवाल शुरू हो गया है और लंका दहन से पहले महाभारत की खबर है जहां एक नंबर से शोभा यात्रा निकाली जानी थी लेकिन इस दौरान कुछ शरारती तत्वों में पुलिस पर पत्थर फेंके और फिर पुलिस को मजबूरन बल प्रयोग करना पड़ा। इस दशहरे को लेकर पिछले तीन सालों से महाभारत होते देखा गया है। फरीदाबाद के इतिहास में पहली बार दशहरे पर इन तीन वर्षों से महाभारत देखा जा रहा है। दशहरा मनाना दो गुटों ने अपनी नाक का सवाल बना लिया है और इन्ही दो गुटों के कारण ये विवाद लगभग तीन वर्षों से हो रहा है। आज की शोभा यात्रा को प्रशासन की अनुमति के बिना निकाला जा रहा था जिसके बाद पुलिस और शोभा यात्रा आयोजकों में बहस शुरू हो गई जिसके बीच कुछ लोग उग्र होकर पत्थरबाजी करने लगे और फिर पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया।

इस साल दोनों पक्षों में समझौता करवाने के कई प्रयास किये गए लेकिन कोई झुकने को तैयार नहीं था जिसका नतीजा आज का बवाल है।एनआईटी के दशहरा मैदान में दशहरे के दिन भारी भीड़ होती है इसलिए पुलिस को दशहरे के दिन किसी अनहोनी से निपटने के लिए जमकर पसीना बहाना पड़ेगा। दोनों पक्षों की लड़ाई का कोई तीसरा फायदा न उठा ले और किसे नए बवाल को न जन्म दे दे इस बात की भी आशंका बनी रहेगी। अगले चुनाव के पहले का ये अंतिम दशहरा है इसलिए कोई किसी के सामने झुकने के लिए तैयार नहीं है। विपक्ष इस बवाल का फायदा उठा सकता है क्यू कि भाजपा के बारे में कहा जाता है कि ये पक्के रामभक्तों की पार्टी है लेकिन फरीदाबाद में जो कुछ देखा जा रहा है उससे कई सवाल उठ रहे हैं। सूत्रों की मानें तो ये बवाल भाजपा को और कमजोर करेगा। इस बवाल के जन्मदाता दोनों पक्षों के लोगों के अलांवा कुछ अन्य भी हैं जो इसी बवाल का इंतजार कर रहे थे और अब उन्हें मुँह माँगी मुराद मिलती जा रही है जिसे वो चुनावों में भुनाएंगे। इस बवाल से कुछ नेता काफी खुश होंगे वो इसी बवाल का इन्तजार कर रहे थे।

LEAVE A REPLY