माफियाओं और अधिकारियों की मिलीभगत से जारी है अरावली का चीरहरण: पाराशर

0
67

फरीदाबाद: शहर के अधिकारियों की मिलीभगत के कारण अरावली के माफियाओं के काले कारनामे जारी हैं। अब भी जगह-जगह अवैध खनन और अवैध निर्माण जारी है। ये कहना है बार एसोशिएशन के पूर्व अध्यक्ष एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एल एन पाराशर का जिन्होंने शुक्रवार फिर अरावली का दौरा किया और पाया कि जगह-जगह मजदूर लगे पड़े हैं और बड़ी-बड़ी दीवारों की चुनाई चल रही है।
पाराशर ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में कंटेम्प्ट के बाद भी अधिकारियों में ज़रा सा खौफ नहीं है और अधिकारी अरावली का चीरहरण करवा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिस दीवार को मैंने पिछले हफ्ते दो फ़ीट ऊंची देखी, शुक्रवार को उसे 7 फ़ीट ऊंची देखा जिसे देख लगा कि अरावली पर युद्ध स्तर पर अवैध निर्माण चल रहा है। पाराशर का कहना है कि लगता है फरीदाबाद में प्रसाशन नहीं की कोई चीज ही नहीं है और शहर को माफियाओं के हांथों में छोड़ दिया गया है।

पाराशर ने कहा कि कई जगहों पर अवैध खनन भी जारी है, अवैध फ़ार्म हाउस बन रहे हैं जबकि सुप्रीम कोर्ट का आदेश है कि अरावली पर कोई निर्माण नहीं हो सकता। वकील पाराशर ने कहा कि हाल में एक माफिया ने मुझे धमकी दिलवाई थी लेकिन मैंने कहा था कि मैं उसकी धमकी से नहीं डरता और यही कारण है कि शुक्रवार फिर अरावली पर गया और वहां की भी तस्वीरें सार्वजनिक कर रहा हूँ।

पाराशर ने कहा कि अरावली पर माफियाओं का बड़ा गिरोह है और सब मिलकर अरावली को लूट रहे हैं। इन माफियाओं का यहाँ के कई बड़े विभाग के अधिकारी साथ दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि बार-बार आइना दिखाने के बाद भी प्रसाशन नींद से नहीं जाग रहा है जिसे देख लगता है कि सब मिलकर अरावली लूट रहे हैं। उन्होंने कहा कि मेरा अरावली में माफियाओं के खिलाफ अभियान जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि ये अधिकारी ज्यादा दिन तक नहीं बच पाएंगे तो अरावली को माफियाओं के हांथों लुटवा रहे हैं।

LEAVE A REPLY