पार्षद दीपक चौधरी ने रमजान में अनाथ हुए 4 बच्चों को ईद पर दिया नायाब तोहफा

0
526
ballabgarh-parshad-eid-special-clothes-sweets-for-minor

फरीदाबाद: पूरे देश में ईद की धूम है. ईद से पहले बाजारों में जमकर खरीदारी की गयी लेकिन देश में कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनके अपने किसी हादसे का शिकार हो गए हैं और इस त्यौहार पर उनके घर खुशियों के बजाय मातम पसरा है. ऐसे ही अभागों में फरीदाबाद जिले के बल्लभगढ़ में रहने वाले चार बच्चे हैं जिन्होंने इसी रमजान के महीनें में (8 जून को) अपने पिता को खो दिया था.

बता दें कि बल्लभगढ़ के सेक्टर-3 की मदीना मस्जिद में पिछले 15 दिनों से देश में अमन चैन की दुवा के लिए बैठे मुहम्मद इस्माइल (उम्र 47 ) की अचानक ब्रेन हेमरेज की वजह से असमय मौत हो गयी. दिवंगत इस्माइल के चार बच्चे हैं जिसमें दो बेटे और दो बेटियां हैं.

ईद के त्यौहार पर ये बच्चे अपने पिता की कमीं महसूस कर रहे थे, इनके पिता की मौत की खबर बल्लभगढ़ के पार्षद दीपक चौधरी तक पहुंचापहुंची तो वे बच्चों के घर पहुंचे और उन्हें बजार ले जाकर उनके लिए कपडे वगैरह और मिठाइयां खरीदीं।इस मौके पर मस्जिद के ईमाम शरीफ अहमद, जाकिर हुसैन, जान मुहम्मद (मस्जिद के केयरटेकर) भी बच्चों के संग बाजार गए और पार्षद दीपक चौधरी की तारीफ की. इस मौके पर बच्चों ने कहा कि हमें बहुत अच्छा लगा, हमने कभी सपनें में भी नहीं सोचा था कि कोई पार्षद हमारी इतनी फिक्र कर सकता है.

इस मौके पर पार्षद दीपक चौधरी ने कहा कि मृतक इस्माइल को मैं काफी पहले से जानता था, जब मुझे उनकी मृत्यु के बारे में पता चला तो मुझे काफी दुःख पहुंचा। मेरे मन में ख्याल आया कि मैं इनके पिता की कमीं तो नहीं पूरी कर सकता लेकिन ईद पर कुछ खुशियां तो दे ही सकता हूँ, इसीलिए मैंने बच्चों के लिए कपडे और मिठाइयां दी हैं. आगे भी मैं सरकार के सहयोग से इनकी मदद करने का प्रयास करूँगा।

LEAVE A REPLY