भाजपा छोड़ने की तैयारी कर रहे हैं एक दर्जन सांसद

0
267

नई दिल्ली: अगर किसी बड़े अधिकारी पर किसी मुख्यमंत्री का हाँथ हो तो ऐसे अधिकारी क्षेत्र के सांसदों विधायकों की नहीं सुनते और अगर किसी क्षेत्रीय अधिकारी पर सांसद विधायक का हाँथ हो तो ऐसे अधिकारी उस पार्टी के कार्यकर्ता को कुछ नहीं समझते हैं। यही कारण है कि लगभग एक दर्जन भाजपा सांसद पार्टी में घुटन महसूस कर रहे हैं और अफवाह है कि ये सांसद जल्द भाजपा छोड़ सकते हैं। अपनी पार्टी से असंतुष्ट भाजपा सांसदों में कीर्ति आजाद, शत्रुहन सिन्हा, प्रताप चौहान जैसे लगभग एक दर्जन सासंद भाजपा छोड़ने का प्लान बना रहे हैं ऐसी अफवाहें हैं। कई राज्य सभा सांसद भी इनके साथ पार्टी को अलविदा करने की तैयारी कर रहे हैं।

सूत्रों की माने तो भाजपा में एक गुट बन रहा है और इस गुट में वही नेता हैं जिन्हे पार्टी किसी मौके पर पूंछ नहीं रही है। प्रताप सिंह चौहान गुजरात से सांसद हैं। इसी तरह झारखंड, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान के कई सांसद पार्टी फोरम पर ‘मन की बात’ कहने का अवसर न मिलने को लेकर काफी नाराज हैं। उनकी शिकायत है कि केन्द्र और राज्य में पार्टी की सरकार होने के बावजूद उनके क्षेत्रों में कोई काम नहीं हो रहा है, कोई उनकी बात नहीं सुनता, अफसर उन्हें नजरअंदाज कर रहे हैं। अफसरों को राज्य के मुख्यमंत्रियों या उनके चहेते आला अफसरों से शह मिल रही है जिससे वे सांसदों व विधायकों को कुछ नहीं समझते। ऐसी घुटन भरी स्थिति से बाहर आने के लिए वे पार्टी को अलविदा कह सकते हैं।

LEAVE A REPLY