DGP ने दी ASI नरेंद्र को अंतिम विदाई, परिजनों को 60 लाख की आर्थिक सहायता राशि

0
386

चंडीगढ़/ करनाल: डीजीपी हरियाणा बीएस संधू ने बीते दिन रोहतक के लघुसचिवालय में हुई फायरिंग में मारे गए एएसआई नरेन्द्र के परिजनों को आर्थिक सहायता का ऐलान किया है। डीजीपी संधू ने बताया कि नरेन्द्र के परिवार को आर्थिक सहायता के रूप में सरकार की तरफ से 30 लाख रुपये की राशि व पुलिस कोटे से भी आर्थिक मदद के रूप में 30 लाख रूपये की राशि दी जाएगी। पुलिस महानिदेशक हरियाणा बीएस संधू आज करनाल में नरेन्द्र के अंतिम संस्कार में शामिल होने आए थे। डीजीपी संधू समेत कई पुलिस अधिकारी ने नम आंखों से एएसआई नरेन्द्र कुमार को विदाई दी।

वहीं पुलिस अधीक्षक करनाल सुरेन्द्र सिंह भौरिया ने कहा कि जिला पुलिस करनाल के लिए बड़ी दूखद खबर है कि हमारे एक बहादूर उप-निरीक्षक नरेन्द्र कुमार ने अपने कर्तव्य निर्वहन के दौरान दूसरों के प्राणों की रक्षा करते हुए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग के लिए यह बहुत बड़ी हानि है, जिनकी कमी को पूरा नही किया जा सकता। हमें नरेन्द्र कुमार की शहादत का दूख है, किंतु इस बात का गर्व भी है कि दूसरों के प्राणों की रक्षा करते हुए उन्होंने अपने जीवन का बलिदान किया है। पुलिस कप्तान ने कहा कि नरेन्द्र कुमार शालिन व शांत स्वभाव के व्यक्ति थे और अपने कर्तव्य के प्रति सजग व निष्ठावान थे। एस.पी. साहब ने कहा कि शहीद नरेन्द्र कुमार के अदम साहस को देखते हुए, उनके लिए राष्ट्पति पुलिस मैडल के लिए सरकार से पत्राचार किया जाएगा।
श्री भौरिया ने परमपिता परमात्मा से प्रार्थना करते हुए कहा कि वे इस दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान दें और उनके परिवार को इस असहनीय दूख को सहन करने के लिए शक्ति प्रदान करें।
मालूम हो कि शहीद उप-निरीक्षक नरेन्द्र कुमार दिनांक 08.01.15 से एस्कोर्ट गार्द में तैनात थे। जिनका अधिकतर सेवाकाल जिला पुलिस करनाल में व्यतित हुआ है। इस दौरान इनकी तैनाती थाना इन्द्री व थाना घरौंडा में रही है, वे काफी लंबे समय तक पी.सी.आर. 08 और पी.सी.आर. 04 पर भी इन्चार्ज के रूप में कार्य कर चुके हैं। दिनांक 08.08.18 को नरेन्द्र कुमार एक महिला सिपाही के साथ नारी निकेतन करनाल में रह रही एक नाबालिग लड़की को कोर्ट पेशी के लिए रोहतक लेकर गए थे। जहां पर उस लड़की को अदालत के समाने पेश करने के बाद जैसे ही वे बाहर आए तो कोर्ट परिसर के बाहर पहले से घात लगाकर बैठे हमलावरों ने उन पर अंधाधुध फायरिंग शुरू कर दी। फायरिंग के दौरान नरेन्द्र कुमार ने बहादूरी का परिचय देते हुए महिला सिपाही व साथ लेकर गए लड़की को बचाने की कोशीश करते हुए अपने प्राणों की आहुती दे दी। इस दौरान गोली लगने से नारी निकेतन करनाल से गई नाबालिग लड़की की भी मौत हो गई। कल डीजीपी सहित अन्य बड़े पुलिस अधिकारियों ने उन्हें अंतिम विदाई दी।

LEAVE A REPLY