अधिकारियों की जेंबे भर सरपंच ने प्राइवेट बिल्डर को बेंच दी अरावली की 46 एकड़ जमीन

0
469

नई दिल्ली: हरियाणा में अरावली की जमीन पर जमकर बड़े बड़े गोरखधंधे हो रहे हैं। फरीदबाद और गुरुग्राम में अवैध तरीके से अरावली की जमीन पर निर्माण की ख़बरें आये दिन सुर्ख़ियों में रहते हैं। ताजा मामला अरावली क्षेत्र में ही ग्राम पंचायत की जमीन को प्रशासन की आंख में धूल झोंककर बेचने का सामने आया है। मुख्यमंत्री विंडो पर ऑनलाइन दर्ज शिकायत में कहा गया है कि तकरीबन 46 एकड़ ग्राम पंचायत की भूमि को मिलीभगत करके एक प्राइवेट बिल्डर को बेच दिया गया है। इसे लेकर मुख्यमंत्री के विशेष कार्याधिकारी ने सख्त रुख अपनाते हुए गुडग़ांव प्रशासन को इसकी जांच के आदेश दिए हैं।

CM विंडो पर प्राप्त शिकायतों के मासिक समीक्षा के दौरान सामने आया कि गुडग़ांव के अरावली क्षेत्र में स्थित गैरतपुर और रायसीना गांव में 46 एकड़ भूमि को बेच दिया गया है। यह भूमि सार्वजनिक उपयोग की ग्राम पंचायत की जमीन बताई गई है जिसे बेचना गैरकानूनी है। जब यह मामला सामने आया तो हड़कंप मच गया और इसे लेकर संबंधित अधिकारियों को तत्काल कार्रवाई करने के आदेश दिए गए हैं।

मुख्यमंत्री के ओ.एस.डी. भूपेश्वर दयाल और अतिरिक्त मुख्य सचिव राकेश गुप्त ने इसका कड़ा संज्ञान लेते हुए गुडग़ांव प्रशासन को आदेश दिए हैं कि राजस्व रिकार्ड के अनुसार भूमि के बारे में जांच की जाए और मामला सही पाए जाने पर मामला दर्ज किया जाए। बताया जाता है कि यह भूमि सरपंच और गांव से संबंधित पटवारी और तहसीलदार की मिलीभगत से बिल्डर को बेचा गया होगा। इस बारे में संबंधित अधिकारियों को आदेश देते हुए कहा गया है कि इस मामले में जांच कर आवश्यक कार्रवाई की जाए और मुख्यमंत्री कार्यालय को की गई कार्रवाई से अवगत करवाया जाए।

LEAVE A REPLY