बड़खल झील में भैंस चराने पहुंचे भड़ाना, झील में पानी न होने से मुर्झायेगा बड़खल में कमल?

0
202

चंडीगढ़: हरियाणा में अगर भाजपा अगले विधानसभा चुनावों में सबसे पहले कहीं हारेगी तो वो फरीदाबाद की बड़खल विधानसभा सीट होगी। ऐसा बार बार कुछ संस्थाओं के सर्वे में कहा जा रहा है। बड़खल में अगर कमल मुरझाया तो कसूर विपक्ष नहीं सत्ता पक्ष का होगा। इस विधानसभा में आवाज उठाने वालों पर फर्जी मुक़दमे सबसे ज्यादा लादे गए हैं। विधानसभा क्षेत्र में कुछ सड़कों को छोड़ दें तो लगभग चार वर्षों में कोई अन्य तरह का विकास नहीं हुआ है। यहाँ अगर कोई विकास हुआ है तो वो शराब के ठेकों का और वैध ठेके तो कहीं अवैध ठेके खुले हैं।
हाल में बिजली के लिए प्रदर्शन करने वाले 18 लोगों को इसी विधानसभा क्षेत्र में हवालात में बंद करवाया गया था। जिसके बाद यहां की विधायिका की पूरे देश में जगहंसाई हुई थी। कुछ माह पहले आम आदमी पार्टी के नेता धर्मबीर भड़ाना पर एक मामला दर्ज करवाया था। उनकी जुबान थोड़ी सी फिसल गई थी जिसके बाद उन्होंने प्रेस वार्ता कर विधायिका से माफी माँगी फिर जिमखाना क्लब सेक्टर 21 में भरी महफ़िल में माफी माँगी लेकिन उन्हें माफ़ नहीं किया गया। दोस्तों महात्मा गांधी ने लिखा था कि कमजोर कभी माफ़ नहीं कर सकता, माफ़ करने के लिए बहुत ताकत की ज़रूरत है, कमज़ोर लोग किसी माफ़ नहीं कर सकते, ये बात सौ फीसदी सत्य है। धर्मबीर भड़ाना को माफ़ नहीं किया गया शायद माफ़ करने वाला कमजोर था।
वक्त एक जैसा नहीं होता, समय का पहिया हमेशा घूमता रहता है और उस मामले के बाद भड़ाना कमजोर नहीं और ताकतवर बनकर उभरे और बड़खल से कमल उखाड़कर फेंक देने का प्रयास करने लगे और यही कारण है कि बड़खल में कमल मुरझाता जा रहा है।
आज सुबह धर्मबीर भड़ाना अपनी टीम के साथ बड़खल झील में भैंस चराने पहुंचे हैं और स्थानीय विधायिका पर करारा प्रहार अपने सम्बोधन के माध्यम से उन्होंने किया है। सत्ता में आते ही भाजपा विधायिका बड़खल झील भरने की बात कर रहीं हैं लेकिन अभी तक झील में एक बूँद पानी नहीं आया है। भड़ाना विधायिका पर कई तरह के आरोप लगा रहे हैं। उनका कहना है वी दो नंबर के खोखों को तुड़वाकर अपने भाई के लिए होटल बनवाना चाहतीं थीं और विरोध करने पर उन पर फर्जी मामला दर्ज करवाया गया। कुल मिलाकर भड़ाना बड़खल झील में जिन भैंसों को लेकर गए हैं वो भैंसे कमल निगल सकतीं हैं। भड़ाना का पूरा सम्बोधन कुछ देर बाद

LEAVE A REPLY