NIT-1 मार्केट, सेवा समिति शॉप-33 पर विवाद, शकुंतला भाटिया ने भतीजे पर लगाया मारपीट का आरोप

0
675
nit-market-no-1-sewa-samiti-shop-33-dispute-faridabad

फरीदाबाद: NIT-1 मार्केट में एक दुकान को लेकर बवाल की खबर आयी है. मारपीट की सूचना भी मिली थी. जब मामले की पड़ताल की गयी तो पता चला कि दुकान बंटवारे को लेकर पारिवारिक विवाद हो रहा है.

यह दुकान सेवा समिति, मार्किट नंबर-1 में है जिसका नंबर – 33 है. जानकारी करने पर पता चला कि दुकान पर दो चचेरे भाई पिछले कई वर्षों से काम करते थे लेकिन अब दोनों चचेरे भाइयों में लड़ाई हो रही है, कोर्ट में भी केस चल रहा है.

आज सुबह दुकान मालिक होने का दावा करने वाले अमित भाटिया दुकान से कपडे निकाल रहे थे तो दूसरा पक्ष वहां पर आ गया, इस दौरान दोनों पक्षों में बहस भी हुई जिसका वीडियो ये है –

हमने इस वीडियो में दोनों पक्षों से बातचीत की, शकुंतला भाटिया और मदललाल भाटिया का वीडियो स्टेटमेंट लिया और बाद में दूसरे से फोन पर बातचीत करके उनका पक्ष लिया. पहले पक्ष का देखें वीडियो –

उपरोक्त वीडियो में शकुंतला भाटिया एवं मदललाल भाटिया का कहना है कि दोनों पक्ष दुकान नंबर – 33 में अपनी अपनी तरफ बिजनेस करते थे, उन्होंने आरोप लगाया कि अब अमित भाटिया अपने दीदी एवं जीजा के साथ मिलकर पूरी दुकान हड़पना चाहते हैं, आज उन्होंने दुकान का काफी सामान निकाल लिया, उन्होंने चोरी का आरोप भी लगाया. उन्होंने बताया कि हम वहां पर 40 वर्षों से काम करते हैं, एक तरफ हमारा लेडीज सामान रहता है और दूसरी तरफ अमित भाटिया अपना जेंस्ट्स का सामान लगाता है. अब काम बढ़ गया तो अमित अपनी दीदी और जीजा के साथ मिलकर दुकान हड़पना चाहते हैं, आज सुबह हमेंपता चला कि वह दुकान खाली कर रहा है तो हम वहां गए, उन्होंने हमारे साथ मारपीट की और दुकान से हमारा सामान भी ले गए.

इस बारे में मदनलाल भाटिया से पूछताछ हुई तो उन्होंने बताया हम लोग 35 वर्षों से इस दुकान पर काम करते हैं लेकिन अब अमित भाटिया अपने जीजा-दीदी के साथ मिलकर दुकान हड़पना चाहते हैं, हमने इस मामले में कोर्ट केस डाला हुआ है, हमें 14 जनुवरी को तारीख मिली है लेकिन ये उससे पहले ही दुकान का सामान निकालने लगे. जब मदनलाल भाटिया और शकुन्तला ने पूछ गया कि क्या आप लोग अमित को उसका आधे का हक देना चाहते हैं तो उन्होंने कहा कि दुकान का दो हिस्सा होना चाहिए और दोनों को हक मिलना चाहिए.

अमित भाटिया ने बतायी दूसरी कहानी

हमने अमित भाटिया से भी उनका पक्ष पूछा तो उन्होंने अलग ही कहानी बतायी –

अमित भाटिया ने बताया कि ये लोग मेरे चाचा के लड़के हैं, इन्होने करीब 15 दिन पहले मेरे घर के आगे मेरी गाडी में आग लगा दी, इस मामले में हमें 1 नंबर थाने में उनके खिलाफ FIR दर्ज कराई है, उसकी CCTV फुटेज है जिसमें ये संदिग्ध लोग दिख भी रहे हैं, परेशान तो ये लोग हमें कर रहे हैं, शिकायत तो हमें करनी चाहिए, सुबह इन्होने हमसे दुकान की चाभी मांगी, उस वक्त हमें नहीं पता था कि मेरी गाडी में आग इन्होने लगाई है, हमें किसी तरह से आग बुझा दी थी, अगले दिन हमने दूकान खोली, दूकान पर मेरे जीजाजी भी मेरे साथ होते हैं, इन्होने हमसे झगडा किया और मेरे जीजाजी को थप्पड़ मार दिया, दुकान मेरी है, मेरे पिताजी के नाम दुकान है, एक तरह से मेरी दुकान है और मेरी ही दुकान पर इन्होने मेरे जीजाजी को थप्पड़ मार दिया. उसके बाद हमने दूकान बंद कर दी और इन्होने कोर्ट में केस कर दिया.

अमित भाटिया ने यह भी बताया कि हमें इन्हें सिर्फ दुकान में बैठने की जगह दी थी ताकि ये अपने परिवार चला लें लेकिन अब ये हमें ही दुकान से निकालना चाहते हैं.

बूढी महिला शकुंतला भाटिया के साथ मारपीट के सवाल पर अमित भाटिया ने कहा कि उन्हें किसी ने हाथ नहीं लगाया, वह मुझे ही उल्टा सीधा बोलती रहती हैं, मेरे जीजाजी SC से हैं, इन लोगों ने उन्हें मारा है, मेरी दीदी को थप्पड़ मारा है, इसकी हमने पुलिस में शिकायत दी है.

अमित भाटिया ने यह भी बताया कि दूसरे पक्ष ने कोर्ट में केस कर दिया, सेवा समिति पर भी केस कर दिया तो उन्होंने लिख कर दिया कि दुकान-33 के किरायेदार मेरे पिताजी थी और अब मैं हूँ, रसीदें भी मेरे नाम से हैं, इन्होने कोर्ट से स्टे भी माँगा था लेकिन कोर्ट ने स्टे देने से मना कर दिया.

अमित भाटिया ने बताया कि मेरे पास कोर्ट के लिखित आर्डर हैं कि अगर हम चाहें तो वकीलों की सहमति से सामान ले जा सकते हैं, कल हमनें पुलिस प्रोटेक्शन मांगी कि कल सुबह हमें सुरक्षा दी जाए ताकि हम सामान निकाल सकें, आज हमने दुकान खोली तो घर की औरतों ने आकर उल्टा-सीधा बोला शुरू कर दिया, उस वक्त हमारे वकील भी थे, पुलिस के लोग भी थे.

चोरी के आरोप पर अमित भाटिया ने कहा कि हमने अपना सामान निकालते वक्त वीडियो रिकॉर्डिंग करा रखी है क्योंकि हमें पता था कि हम पर चोरी के आरोप लगाए जा सकते हैं. 20 लाख रुपये के सामान की चोरी के आरोप पर अमित भाटिया ने कहा कि अगर वे 20 करोड़ के सामान का चोरी का आरोप लगाएं तो उन्हें बिल भी दिखाने पड़ेंगे, हमने कोई चोरी नहीं की है, इनके कपडे दुकान में ही एक कोने में पड़े हैं.

दोनों पक्षों ने दी पुलिस में शिकायत

दोनों पक्षों ने पुलिस में शिकायत दे दी है, अब देखते हैं कि पुलिस इस मामले में क्या कार्यवाही करती है, शकुंतला भाटिया चाहती हैं कि दूकान आधी आधी बाँट दी जाए और दोनों को हक मिले, वहीं अमित भाटिया पूरी दुकान पर अपना दावा कर रहे हैं. पुलिस प्रशासन को इस मामले में निष्पक्ष होकर कार्यवाही करनी चाहिए क्योंकि ये पारिवारिक विवाद का मामला है.

LEAVE A REPLY