प्रेमिका से शादी कर करने लगा नौकरी, पुलिस ने जुनैद मर्डर केस में भेज दिया जेल, HC ने दी जमानत

0
250

फरीदाबाद: 22 जून 2017 को गाजियाबाद-मथुरा शटल में विवाद के चलते बल्लभगढ़ के खंदावली गांव में रहने वाली जुनैद की हत्या कर दी गई थी। असावटी रेलवे स्टेशन के समीप मिले सीसीटीवी फुटेज के आधार पर 8 जुलाई को मुख्य आरोपित नरेश को महाराष्ट्र के धुले से अरेस्ट किया गया था। इसके अलावा पलवल निवासी रमेश, प्रदीप, रामेश्वर, गौरव और चंद्र प्रकाश को अरेस्ट किया गया। प्रदीप, गौरव और चंद्र प्रकाश फरीदाबाद की एक कंपनी में नौकरी करते थे। प्रदीप, गौरव, चंद्रप्रकाश और रमेश को पिछले साल ही जिला अदालत से जमानत मिल गई थी। जबकि रामेश्वर को 30 मार्च 2018 को पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने जमानत दे दी। पिछले हफ्ते मुख्य आरोपी नरेश सहरावत को भी हाईकोर्ट ने जमानत दे दी। हरियाणा अब तक ने आज नरेश के पलवल के पास गांव जाकर उनसे बात की। नरेश ने बताया कि वो राजनीति का शिकार हो गए उन्होंने जुनैद की ह्त्या नहीं की थी। जुनैद भीड़ का शिकार हुआ था।
नरेश ने बताया कि मैं शिवजी ब्रिज स्टेशन पर ट्रेन में बैठा। गाड़ी आगे बढ़ी, जब ओखला स्टेशन पर गाड़ी पहुँची तो वहाँ काफी भीड़ चढ़ गई।

गेट पर काफी लड़के खड़े थे। वो लड़के एक बुजर्ग को पीट रहे थे। मैं बुजुर्ग को बचाने लगा उस दौरान उन लड़कों से मेरी हांथापाई हो गई। उसके बाद वो लड़के तुगलकाबाद में उस बोगी से उतर गए। गाड़ी जब बल्लबगढ़ रेलवे स्टेशन पर पहुँची तो कई लड़के उस बोगी में चढ़ गए और उनके पास धारदार हथियार था। वो लड़के मुझे ढूंढने लगे और मैं ट्रेन की सीट के नीचे छुप गया तभी एक लड़के ने नीचे मेरी तरफ इशारा किया और फिर वो लड़के मुझे मारने लगे। मेरी शरीर में कई जगह अब भी निशान हैं, लगभग पांच जगह चाकू से उन पर हमला किया गया। वो उस समय बेहोश हो गए। कुछ लोगों ने नरेश को वहाँ से उठाया और ट्रेन में बैठाया। मैं फिर अपने स्टेशन से उतर अपने घर गया।

नरेश ने बताया कि मेरी प्रेमिका मुझसे शादी करने के लिए बोल रही थी इसलिए मैंने वृन्दावन जाकर अपनी प्रेमिका से शादी किया और महाराष्ट्र में मेरी नौकरी की बात पहले ही चल रही थी इसलिए मैं अपनी पत्नी के साथ वहाँ नौकरी करने चला गया। उसके बाद एक दिन अचानक पुलिस उनके ठिकाने पर पहुँची और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया तब उन्हें पता चला कि ट्रेन के झगडे में किसी जुनैद नाम के युवक की मौत हो गई है ,नरेश ने बताया कि जब ट्रेन में लड़ाई हुई थी तब उन्हें ये भी नहीं पता था कि उनकी तकरार किस जाति धर्म के युवक के साथ हुई है ,जब बल्लबगढ़ में कई युवक उन्हें मारने लगे तब उन्हें पता कि ये अल्प समुदाय के लोग हैं क्यू कि उनके एक युवक जालीदार टोपी में था और अजीब तरह की गाली दे रहा था। नरेश ने बताया कि जुनैद की हत्या हुई मुझे भी दुःख है और जिसने किया हो उसे सजा मिले। नरेश के मुताबिक उसे तो मीडिया और नेताओं के दबाव में बलि का बकरा बनाने का प्रयास किया गया और अब उसका परिवार तवाह हो चुका है ,नरेश को उत्तर प्रदेश नव निर्माण सेना ने लोकसभा चुनाव लड़ने का ऑफर दिया है ,इस पर नरेश का कहना है कि मैं चुनाव लड़ सकता हूँ। देखें वीडियो

LEAVE A REPLY